Breaking News

Akhand Bharat

7 मार्च से चलेगा सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान- मुख्य चिकित्सा अधिकारी


- जिला टास्क फोर्स की बैठक में मुख्य विकास अधिकारी ने तैयारियों की समीक्षा की

- तीन चरणों में चलेगा सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान

- पल्स पोलियो अभियान 20 मार्च से 

- छूटे हुये दो वर्ष तक के बच्चों व गर्भवती का किया जायेगा टीकाकरण 

बलिया, 23 फ़रवरी 2022

नवजात शिशुओं और बच्चों में होने वाली जानलेवा बीमारियों जैसे पोलियो, खसरा-रूबेला, रोटा वायरस, डिप्थीरिया, टिटनेस, काली खांसी आदि से बचाने के उद्देश्य से 7 मार्च से 'सघन मिशन इंद्रधनुष-4.o” अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान को सफल बनाने के लिए विकास भवन में बुधवार को जिला टास्क फोर्स की बैठक संपन्न हुई। 

इस बैठक में  मुख्य विकास अधिकारी प्रवीण वर्मा ने 'सघन मिशन इंद्रधनुष' अभियान की तैयारियों की समीक्षा की, साथ ही 20 मार्च से चलने वाले पल्स पोलियो कार्यक्रम की भी समीक्षा की। मुख्य विकास अधिकारी ने अभियान को सफल बनाने के लिए आवश्यक दिशा- निर्देश दिए साथ ही जोर देकर कहा कि ईट-भट्ठों और मेहनत मजदूरी करने वाले परिवार के बच्चों के टीकाकरण पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। 

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० नीरज कुमार पाण्डेय ने बताया कि टीकाकरण से वंचित या आंशिक टीकाकरण वाले बच्चों को अभियान के तहत ग्यारह तरह की बीमारियों से बचाने वाले टीके लगाए जाएंगे। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ एके तिवारी ने बताया की बच्चों का नियमित टीकाकरण बेहद जरूरी है।  यह अभियान एक सप्ताह तक रविवार व सरकारी अवकाश में भी संचालित किया जाएगा। सत्र का आयोजन सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक किया जाएगा। जिसमें छूटे हुये दो वर्ष तक के बच्चों व गर्भवती का टीकाकरण किया जाएगा । उन्होने बताया कि अभियान के तहत एएनएम, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा सर्वे का कार्य किया जाएगा, जिसमें छूटे हुये दो वर्ष तक के बच्चों व गर्भवती को चिन्हित कर सूची तैयार की जाएगी।

इस बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० नीरज कुमार पाण्डेय, जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ० आनंद कुमार, एसीएमओ (आरसीएच) डॉ० सुधीर कुमार तिवारी, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० वीरेंद्र कुमार सभी ब्लॉक के अधीक्षक / प्रभारी चिकित्साधिकारी, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ० नकीबुलजमा, यूनिसेफ के डीएम सी नसीम खान,चाई के  क्लस्टर लीड तौहीद अहमद, जिला  प्रतिनिधि धर्मेन्द्र तिवारी आदि मौजूद थे।


रिपोर्ट -त्रयंबक नारायण देव गांधी


No comments