Breaking News

बलिया के स्वास्थ्य केन्द्रों पर मनाया गया प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस

 


- जच्चा-बच्चा दोनों की सुरक्षा के लिए हुई जांच

- उच्च जोखिम वाली गर्भवती हुई चिन्हित 

बलिया । स्वास्थ्य विभाग द्वारा गर्भवती को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराने का प्रयास जारी है।इसी क्रम मे जिले के समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम करने के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जिला महिला चिकित्सालय में मुख्य चिकित्सा अधीछिका डॉ० सुमिता सिन्हा द्वारा फीता काटकर प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान का शुभारंभ किया गया। इस दिवस पर गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व  जाँच निःशुल्क की गयी ।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० तन्मय कक्कड़ ने बताया की स्वास्थ्य विभाग का उद्देश्य यही रहता है कि जन्म लेने वाले बच्चे और माता दोनों का स्वास्थ्य व जीवन सुरक्षित रहे I इसके लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस के अन्तर्गत दूसरी व तीसरी तिमाही की सभी गर्भवती की कम से कम एक जाँच चिकित्सक या प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ के द्वारा करायी जाती है। उन्होंने बताया की ग्रामीण परिवेश में सभी गर्भवती को प्रसव पूर्व देखभाल के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस के अन्तर्गत सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर हर माह की प्रत्येक नौ तारीख को सेवाएं दी जाती हैं।  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर  गर्भवती के शरीर में खून की कमी, रक्त समूह, वजन, यूरिन, मधुमेह, एच.आई.वी., सिफलिस की जाँच की जाती है , ताकि प्रसव में होने वाले जोखिम की पहचान हो सके और समय रहते माँ व बच्चे, दोनों को सुरक्षित किया जा सके। इस विशेष दिवस पर उच्च जोखिम वाली गर्भवती महिलाओं को चिन्हित कर विशेष स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए जनपद स्तर की चिकित्सा इकाई पर रेफर किया जाता है। 

 जिला कार्यक्रम प्रबंधक  राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ड़ॉ० आर० बी० यादव ने बताया की इस दिवस पर   गर्भवती की निःशुल्क प्रसव पूर्व देखभाल की सेवाएं प्रदान की गयी। जरूरत के हिसाब से उच्च चिकित्सा इकाई पर प्रबंधन और सुरक्षित संस्थागत प्रसव के लिए रेफर किया गया । जिससे उन्हें समय पर सही उपचार मिल सके।साथ ही परिवार कल्याण कार्यक्रम से संबंधित विधियों के संबंध में काउंसलिंग की गयी और आवश्यकतानुसार महिलाओं को लॉजिस्टिक प्रदान की गयी। गर्भवती महिलाओं का पोर्टल पर पंजीकरण किया गया तथा जननी सुरक्षा योजना का लाभ पाने हेतु बैंक खाते खुलवाने के संबंध में जानकारी प्रदान की गयी ।

क्या कहा लाभार्थियों ने:-

1. प्रियंका, निवासी बरसरी,ने बताया कि इस योजना को अपनाने से मातृ- मृत्यु दर में गिरावट आएगी और होने वाला बच्चा भी स्वस्थ होगा।

2. पिंकी,निवासी उमरगंज ने बताया की इस योजना से गर्भावस्था में एनीमिया, डायबिटीज,हाई ब्लड प्रेशर, संक्रमण,आदि का पता चल जाएगा।

3. कंचन,निवासी मझौली,ने बताया की यह योजना उन महिलाओं के लिए फायदेमंद है। जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं, पर सभी वर्ग की महिलाएं इस योजना का लाभ उठा सकती हैं जो गर्भावस्था के दौर में हैं।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments