Breaking News

पूर्व चेयरमैन की शव यात्रा में उमड़ा जन सैलाब




चितबड़ागांव, बलिया। नगर पंचायत चितबड़ागांव के पूर्व चेयरमैन आदित्य नारायण कनकन के आकस्मिक निधन से हतप्रभ एवं शोकाकुल लोग अपनी संवेदना व्यक्त करने हेतु भारी संख्या में अन्तिम यात्रा में सम्मिलित हुए। विदित हो कि कनकन जी का हृदय गति रुकने से सोमवार की शाम निधन हो गया। पैतृक आवास से निकली शवयात्रा टोंस नदी के चितेनाथ घाट पहुंची, जहां पार्थिव शरीर को उनके बड़े पुत्र संदीप गुप्ता ने मुखाग्नि दी।
चितबड़ागांव के दानवीर कहे जाने वाले स्वर्गीय प्रभु नारायण गुप्त के जेष्ठ पुत्र आदित्य नारायण कनकन सन् 2007 में बसपा के टिकट पर चितबड़ागांव नगर पंचायत के चेयरमैन चुने गए। उन्होंने अपने कार्यकाल में विकास का जो आयाम दिया, उसे आज भी कहा सुना जाता है। कन कन जी हृदय रोग से पीड़ित थे। उनका पीजीआई में से इलाज चल रहा था। सोमवार की शाम उन्हें कुछ परेशानी महसूस हुई। परिजन उन्हें निजी वाहन से वाराणसी ले जा रहे थे, लेकिन गाजीपुर जाते जाते उनका निधन हो गया। निधन का समाचार नगर पंचायत और ग्रामीण क्षेत्र में जंगल की आग की तरह फैल गया सोमवार की शाम से ही उनके दरवाजे पर उनको चाहने वालों की भीड़ भारी भीड़ जमा होने लगी थी। मंगलवार को चितबड़ागांव बाजार पूरी तरह बंद रहा सभी शिक्षण संस्थाएं शोक में बंद रहीं। पूर्व चेयरमैन को अंतिम विदाई देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री उपेंद्र तिवारी, पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी, पूर्व सपा जिला अध्यक्ष संग्राम यादव, सपा जिला अध्यक्ष राज मंगल यादव, बसपा जिलाध्यक्ष संतोष राम, भाजपा जिलाध्यक्ष जयप्रकाश शाहू, नगर पालिका परिषद बलिया के अध्यक्ष अजय कुमार, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष लक्ष्मण गुप्ता, बसपा नेता अनिल राय, अंजनी उपाध्याय, मिठाई लाल भारती, पूर्व ब्लाक प्रमुख बंशीधर यादव, वीरेंद्र राय, चितबड़ागांव नगर पंचायत के अध्यक्ष केसरी नंदन त्रिपाठी, पूर्व अध्यक्ष बृज कुमार सिंह, भाजपा नेता अमरजीत सिंह, प्रदीप गुप्ता, रामजतन वर्मा, पप्पू केसरी, राणा प्रताप सिंह, अशोक गुप्ता, दिलीप गुप्ता समेत तमाम लोगों ने  पूर्व चेयरमैन को अंतिम विदाई दी।



रिपोर्ट- अतुल कुमार तिवारी

No comments