Breaking News

आरक्षण व्यवस्था से सबसे ज्यादा उपेक्षा ब्राह्मणों की हुई है : पं० अरविन्द तिवारी



बलिया । विप्र समाज सदा से देश व समाज के लिए ही अपनी क्षमता का प्रयोग करते रहे है। बावजुद इसके राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं का वर्ण व्यवस्था के गलत व्याख्या कर समाज के जातिगत भेद-भाव पैदा करते हुए आरक्षण व्यवस्था को जो वोट बैंक का आधार बनाया है उसमें सबसे ज्यादा उपेक्षा ब्राह्मणों की हुई है। मौजुदा दौर में संवैधानिक व्यवस्था में अलग-थलग पड़े समस्त ब्राह्मणों को एकजुट होकर अपने उत्थान के लिए स्वयं संघर्ष करने के साथ-साथ धर्म व संस्कृति के पतन की रक्षा के लिए समाज को दिशाहीन होने से बचाना भी ब्राह्मण का दायित्व होना चाहिए। उक्त बातें बलिया (सतनी सराय, शांभवी क्लीनिक )में ब्राह्मण स्वयं सेवक संघ के कार्यालय उद्धाटन के अवसर पर राष्ट्रीय संयोजक पं० अरविन्द तिवारी ने कही। इस अवसर पूर्व मन्त्री सनातन पाण्डेय ने संबोधित करते हुए कि ब्राह्मणों की अस्मिता की रक्षा व सामाजिक व्यवस्था में पिछड़ते रूतवे को पुनः कायम करने के लिए ब्राह्मण समाज के सभी घटकों को एक मंच पर आना होगा। इसी क्रम में प्रधानाचार्य परिषद के प्रांतीय मन्त्री चन्द्रशेखर उपाध्याय ने कहा कि राजनीति में स्वार्थ पुर्ति के लिए आरक्षण की व्यवस्था को बढ़ावा देने का विप्र समाज पुरजोर विरोध करता है। कार्यक्रम का शुभारम्भ भगवान परशुराम के तैल चित्र पर माल्यार्पण  एवं गायत्री मन्त्र के साथ दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। इस अवसर पर प्रदेश प्रभारी डा० अवनीश पाण्डेय,ब्लाक प्रमुख बबलू तिवारी, नकुल चौबे, पूर्व चेयरमैन संजय उपाध्याय, राजदीपक तिवारी, एस.पी.ओझा, सच्चिता नन्द तिवारी, द्वारिका नाथ दूबे, बलराम मिश्र, राहुल मिश्र, सरोज दूबे, लालू उपाध्याय, सुधीर मिश्र, अरुण कुमार ओझा, अरूण दूबे, गुलाब उपाध्याय, दयाशंकर तिवारी, अमरनाथ त्रिपाठी, अमरीष चौबे, संजय पाण्डेय, करुणेश पाण्डेय, धनेश पाण्डेय आदि सैकड़ों की संख्या में ब्राह्मण स्वयंसेवक संघ के सदस्य एवं पदाधिकारी गण मौजुद रहे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष राजेश मिश्र एवं संचालन जिला प्रभारी ओमप्रकाश पाण्डेय ने की।



रिपोर्ट : अजित ओझा

No comments