Breaking News

> > >

कोविड -19 से जंग को प्रशिक्षित हुए स्वास्थ्य कर्मी


रतसर (बलिया): कोरोना संक्रमितों के इलाज में जुटे स्वास्थ्य कर्मियों को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर मंगलवार को स्वयं के बचाव सम्बन्धी प्रशिक्षण दिया गया। प्रभारी चिकित्साधिकारी डा० राकिब अख्तर ने प्रशिक्षण के समय सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए बताया कि कोरोना संक्रमित के इलाज में दिन रात जुटे चिकित्सकों और अस्पताल कर्मियों को भी खास सावधानी बरतने की जरूरत है। संक्रमित के इलाज के दौरान चिकित्सक के खुद इस वायरस के जद में आने की बात सामने आ चुकी है। इसलिए वायरस की स्थिति को देखते हुए हेल्थ वर्कर भी खास सावधानी बरते ताकि संक्रमण उनके अपनों तक न पहुंचने पाए। इस सम्बन्ध में कर्मचारियों के लिए विशेष दिशा निर्देश जारी किए गए है। निर्देशों में कहा गया है कि कोरोना वायरस से सावधान रहने की जहां जरूरत है वही गांवों में सर्वे के दौरान विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

उन्होंने बताया कि चिकित्सा कार्मियों को विना सुरक्षा उपकरणों के इन्फेक्टिव जोन में प्रवेश नही करना है और ना ही वहां कुछ खाना-पीना है। कोई भी संक्रामक सतह को छूने के तुरन्त बाद अपने हाथों को साबुन से 30 सेकेंड तक धोना है। इसके अलावा हाथ धोने के लिए "सुमन के" की विधि के बारे में विधिवत जानकारी दी और बताया कि हाथ धोने के लिए अधिक से अधिक लोगों को इसके बारे में जागरूक करे। उन्होंने ने "सुमन के" को परिभाषित करते हुए बताया कि (एस-सीधा,यू-उल्टा, एम- मुट्ठी,ए-अंगुठा, एन- नाखून,के-कलाई ) गांव में जाकर लोगों को हाथ धोने की इस विधि को बताकर जागरुक करे तथा साबुन से कम से कम 20 सेंकेंड धोने के लिए बताए। प्रशिक्षण शिविर में डा० मुख्तार यादव, डा० अमित वर्मा, बीपीएम आशुतोष सिंह, अनिल कुमार, एस एन त्रिपाठी सहित एचवी,एएनएम,एचएस एवं समस्त फील्ड कर्मचारी उपस्थित रहें।



रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय





No comments