Breaking News

प्रेम दया और सद्भाव यही है सभी धर्मो का सार : फादर जान अब्राहम


रसड़ा (बलिया) : सभी धर्मों का सार प्रेम, दया, सद्भाव है और ये ही मानवीय सद्गुण हैं। जिसको प्राप्त करने का संदेश हमें सभी धर्म देते हैं एेसे में धर्मों में किसी तरह का आपसी विभेद नहीं अपितु सामंजस्य एवं सद्भाव सन्नहित है। उक्त बातें फादर जान अब्राहम (प्रतिनिधि बिशप) ने मंगलवार को संत फ्रांसिस चर्च परसिया के प्रांगण में आयोजित खृस्त जयंती मिलन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि अपने संदेश में कही। इसके पूर्व उन्होंने पल्ली पुरोहित फा. मैथ्यू कयानी व जान अब्राहम के साथ दीप प्रज्ज्वलित कर धर्म सम्मेलन का शुभारंभ किया। हिंदु धर्म गुरू वशिष्ठ नारायण तिवारी ने भारत की साम्प्रदायिक एकता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारत विभिन्न धर्मों की संगम स्थली है जहां सभी साधू-संतों ने अपने जीवन व आचरण में सत्य मार्ग का अनुगमन करते हुए सत्य के लिए सर्वस समर्पित करने का संदेश दिया। मुस्लिम धर्मगुरू कारी अरशद रहमानी ने हजरत मुहम्मद के पवित्र संदेशों का उल्लेख करते हुए कहा कि नवी ने हमें इंसानियत, प्रेम व मिलजूल कर रहने का संदेश देते हुए कहा था कि हमें अपने पड़ोसी की खबर रखनी चाहिए चाहें वह किसी भी धर्म का हो। 



हमें सभी भेद-भाव भूलाकर मिलजूल कर रहने का प्रयास करना चाहिए। बौद्धिस्ट भंते राजरतन ने कहा कि भगवान बुद्ध ने हमें आपस में मिलजूल कर रहने का संदेश दिया और कहा कि हमें बुराईयों को त्यागकर मानवता की शरण में जाना चाहिए ताकि हम अपने जीवन का उद्धार कर सकें। कबीरपंथी गुरू रामबचन दास ने भजन के माध्यम से संत कबीर द्वारा लिखित रचनाआें का जिक्र किया और कहा कि सबकी सेवा करनी चाहिए और इसे कर्त्तव्य का निर्वहन हमारे शिशुआें को भी करना चाहिए।  फादर मैनुएल सी  ने कहा कि प्रभु यीशु ने अपने जीवन व आचरण में सत्य मार्ग को अपनाने को सलाह दी थी और कहा कि प्रभु यीशु ने सूली पर लटकाये जाने से पूर्व अपने शिष्यों का पैर धोकर यह संदेश दिया कि सबकी सेवा करनी चाहिए और इसी कर्त्तव्य का निर्वहन हमारे शिष्याें को भी करना चाहिए। कार्यक्रम के अंत में आयोजक पल्ली पुरोहित फा. मैथ्यू कयानी ने सभी के  साथ साथ मीडिया के सम्मानित संवाददाता के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में विद्यालय की छात्राआें ने धर्म पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। संचालन मास्टर श्यामपति ने किया।

इस मौके पर सिस्टर आशिता ,सिस्टर सरला ,सीडी जान प्रधानाचार्य हार्टमनपुर फादर जाँन मसीह ,अजली रुपा आदि विद्यालय परिवार रहा ।


पिन्टू सिंह

No comments