Breaking News

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती की हुई प्रसव पूर्व जाँच

 


जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर हुआ आयोजन 


बलिया : जिले के सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर बुधवार को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान (पीएमएसएमए) दिवस मनाया गया । इस दौरान स्वास्थ्य केन्द्रों पर आईं गर्भवतियों की महिला चिकित्सकों द्वारा प्रसव पूर्व सभी जाँचें, ब्लड टेस्ट, यूरिन जांच, ब्लड प्रेशर, मधुमेह, सिफ़लिस, हीमोग्लोबिन जांच, परिवार नियोजन परामर्श आदि की निःशुल्क सुविधा दी गयी । मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम करने, गर्भवती की बेहतर स्वास्थ्य देखभाल, प्रसव पूर्व जांच एवं उन्हें समय पर उचित इलाज मुहैया कराने के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान (पीएमएसएमए) दिवस हर माह की नौ तारीख को मनाया जाता है ।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डा.सुधीर कुमार तिवारी ने बताया - प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस का मुख्य उद्देश्य मातृ व शिशु मृत्यु दर में कमी लाना और संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देना है। उन्होंने बताया - इस दिवस पर उच्च जोखिम गर्भावस्था (एचआरपी), दूसरी व तीसरी तिमाही की गर्भवती की सभी प्रकार की जांच एमबीबीएस या गाइनोकोलोजिस्ट की देख रेख में की जाती हैं। यह सभी जांच जिला महिला अस्पताल एवं सामुदायिक/प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों एवं उपकेन्द्रों पर नि:शुल्क की जाती है।

डा. तिवारी ने बताया - महिलाओं में खतरे के लक्षण जांच के माध्यम से पहचाने जाते हैं। जैसे - तेज बुखार, त्वचा का पीलापन, योनि से स्राव, दौरे पड़ना, उच्च रक्तचाप, योनि से रक्त स्राव, हाथ पैरों या चेहरे पर सूजन, भ्रूण का कम हिलना या न हिलना, तेज सर दर्द/ धुन्धला दिखना आदि हैं।

विभाग द्वारा मई 2021 में आयोजित प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस पर 282 महिलाओं की जांच की गयी, इनमें 23 गर्भवती उच्च जोखिम गर्भावस्था की चिन्हित हुईं। इसी तरह अप्रैल में आयोजित दिवस पर 766 महिलाओं की जांच की गयी, जिसमें 12 महिलाएं उच्च जोखिम गर्भावस्था की चिन्हित हुईं। इसी तरह मार्च में आयोजित दिवस पर 1053 महिलाओं की जांच की गयी, जिसमे 143 महिलाएं उच्च जोखिम गर्भावस्था की चिन्हित हुई। इन सभी को उचित चिकित्सकीय परामर्श दिया गया।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments