Breaking News

Akhand Bharat

कोरोना काल में भी मिला प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ

 



पहली बार गर्भवती होने पर तीन किश्तों में मिलते हैं 5000 रुपये


एक जनवरी 2021 से अब तक 6000 से अधिक महिलाओं को मिला लाभ 


लाभार्थी सुप्रीति और प्रिया ने इस योजना को सराहा


बलिया : कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में भी प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना लोगों के लिए बड़ी मददगार साबित हुई । पहली बार मां बनने पर प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत मिली राशि इस मुश्किल भरे दौर में महिलाओं और उनके बच्चे के पोषण और देखभाल के लिए अहम सहारा बनी ।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी (आर0सी0एच) डा0 सुधीर कुमार तिवारी ने बताया कि पहली बार गर्भवती होने वाली महिला व प्रसव बाद जच्चा-बच्चा के बेहतर स्वास्थ्य के लिए केंद्र सरकार द्वारा जनवरी 2017 में  प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की शुरुआत की गयी थी। कोरोना की दूसरी लहर में भी पात्र महिलाओं को निरंतर योजना का लाभ देकर सही मौके पर आर्थिक मदद पहुंचाई  जा रही है। उम्मीद है कि इस राशि से माँ और बच्चे के अच्छे पोषण और देखभाल में सहयोग होगा। 

डॉ तिवारी ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को पोषण के लिए 5000 रुपये का लाभ तीन किश्तों में दिया जाता है। पंजीकरण कराने के साथ गर्भवती को पहली किश्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने पर गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूर्ण होने पर तीसरी किश्त में 2000 रुपये दिए जाते हैं।  

जिला कार्यक्रम समन्वयक (पीएमएमवीवाई) इमरान अहमद ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अन्तर्गत जनपद में एक  जनवरी 2021 से 18 जून 2021 तक  6089 महिलाओं को लाभान्वित किया जा चुका है तथा योजना के आरम्भ से अब तक कुल 69689 लाभार्थियों को लाभान्वित किया गया है। अब तक सर्वाधिक रसड़ा ब्लॉक में महिलाएं लाभान्वित की गई हैं जिनकी संख्या 6606 है। उन्होने बताया कि लाभार्थी योजना के फॉर्म अपने क्षेत्र की आशा, एएनएम से संपर्क करके भर सकती हैं। इसके साथ ही प्रवासी पात्र महिलाएं भी आशा से संपर्क कर इस योजना का लाभ ले सकती हैं। महिला सरकारी कर्मचारी नहीं होनी चाहिए। सभी भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में किये जाते हैं जिसका आधार से लिंक होना जरूरी है।

यह कहा लाभार्थियों ने:-

ग्राम - छाता की रहने वाली  सुप्रीति पाण्डेय  ने बताया कि इस कोरोना काल में भी बिना घर के बजट को  बिगाड़े इस पैसे से उन्होंने अपना तथा अपने बच्चे के पोषण का ख्याल अच्छी तरह से रखा।

ग्राम- शेर निवासिनी प्रिया गुप्ता  ने बताया कि इस समय जब चारों तरफ कोरोना का संक्रमण  था तब प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत मिले पैसों ने मुझे तथा मेरे बच्चे के तंदुरुस्ती से कोई समझौता नहीं होने दिया ।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments