Breaking News

Akhand Bharat

साहित्य सदन पुस्तकालय वाचनालय के नौवें एवं युवा संगठन के 16 वें वर्षगांठ पर खण्ड काव्य ओरहन नामक काव्य पाठ का आयोजन

 


मनियर, बलिया । कस्बा स्थित उतर टोला के झुमक बाबा मठ के प्रागण स्थित साहित्य सदन पुस्तकालय बाचनालय के नौवें एवं युवा संगठन के 16 वें वर्षगांठ पर मंगलवार को आयोजित खण्ड काब्य ओरहन नामक काब्य पाठ के मुख्य अतिथी सुशान्त शर्मा ने मां सरस्वती के तैल चित्र पर दीप प्रज्वलित कर खंडकाव्य ओरहन काव्य पाठ को उपस्थित जनता को सुनाते हुए भव विभोर किया । इस काव्य पाठ में सुशांत शर्मा ने ब्रज से  श्री कृष्ण के मथुरा चले जाने पर गोकुल वासियों की पीडा़ को ओरहन का जिक्र किया है। इस काव्य पाठ में राधिका, ग्वाल सखा सुखन का, गोपियों का ,बासुरी की तान, मथानी बाल गोपाल का वियोग , गाय के बछड़ों का ,मधुबन आदि का ओरहन का बर्णन किया है। ओरहन श्रीकृष्ण के लिए व्यक्त किया गया है।आप गुम हो जाते थे तो लोग हमशे पुछते थे कि  कान्हा कहा है ।अब हमसे लोग पुछ रहे है तो मै क्या जबाब दु मेरे नैन आप के दर्शन के लिए  उतावले है । सुशांत शर्मा ने काव्य पाठ किया कि राधिका कहती है कि गोपी के सारी कटारी बुझाला हो ,पाती के आस में फाटेला छाती हो । कृष्ण के जाने के बाद राधा कह रही है हम प्रेम के प्रेम ही बुझनी, ब्रज में अब केहू के बात केहु ना पतिआई ।पाछे आई के का करब हरि, फाटल दूध में डाली के जोरन। आदि पंक्तियों पर श्रोता गणों ने ताली बजाकर कवि सुशांत शर्मा का उत्साहवर्धन किया। उन्होंने कहा ,राधा कहती है कि छाती पर हाथ लगाकर कह कि  अब तहके याद न आवेली राधा। गाय का ओरहन है कि बछड़ों बुलावे तो भले देर हो जाई लेकिन बांसुरी बुलावे तुरंत आ जाइब। बछड़े का ओरहन है की घास तू हमके खियवल, अपने तू खा दूध से मलाई। हटाई मधुबन में 12 मार्च का वर्णन किया है इस कार्यक्रम में प्रमुख रुप से भाजपा नेत्री केतकी सिंह देवेंद्र नाथ त्रिपाठी, अमरनाथ तिवारी ,युवा नेता गोपाल जी  ,प्रदीप उपाध्याय उर्फ लट्टु बाबा  , बृजेश पांडे, सुनील कुमार  सिंह ,आशुतोष कुमार ,डॉ विजय प्रकाश गुप्ता, डा० जगदीश प्रसाद पारसनाथ तिवारी, सुभाष शर्मा ,सभासद अमरेंद्र सिंह, कंचन सिंह ,विनय सिंह कन्हैया वृजविहारी सिह  बलिराम  चौरसीया सुनील उपाध्याय  सहित आदि लोग मौजूद कार्यक्रम की अध्यक्षता  अशोक सिह ने किया  आयोजक युवा संगठन के अध्यक्ष गोपाल जी  ने सब के प्रति आभार व्यक्त किया।


राममिलन तिवारी

No comments