Breaking News

Akhand Bharat

अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ता के रूप में हुआ मनीष का चयन

 


रिपोर्ट : धीरज सिंह


बलिया। जिले के भृगुआश्रम निवासी स्व. सतीश कुमार श्रीवास्तव (एडवोकेट) के पुत्र डॉ. मनीष कुमार को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग-विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड, (डीएसटी-एसईआरबी) भारत सरकार से अंतर्राष्ट्रीय शोधकर्ता के रूप में चुना है। वे चार माह सैन डिएगो स्टेट यूनिवर्सिटी, सैन डिएगो, कैलिफोर्निया (अमेरिका) में  मानव कल्याण के लाभ के लिए प्लांट बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में प्रोफेसर (डॉ.) मरीना कल्युझनाया के साथ शोध कार्य करेंगे। उनके शोध पर आने वाला पूरा खर्च भारत सरकार वहन करेगी। डॉ. कुमार ने इलाहाबाद कृषि संस्थान (AAIDU) से माइक्रोबायोलॉजी में बीएससी, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से माइक्रोबायोलॉजी में एमएससी और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR), से माइक्रोबायोलॉजी में पीएचडी किया है। अब तक उनके अंतरराष्ट्रीय ख्याति के 40 से अधिक शोध पत्र और पुस्तक अध्याय प्रकाशित हो चुके हैं। डॉ. कुमार विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के सहयोग से  2010 और 2011 में जर्मनी का दौरा कर चुके हैं। वह पिछले आठ वर्षों से एमिटी विश्वविद्यालय में वरिष्ठ सहायक प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं। उनकी इस उपलब्धि पर घर व मुहल्ले के लोगों के साथ ही जिले के लोगों ने बधाई दी है।

No comments