Breaking News

Akhand Bharat welcomes you

प्रधानाध्यापक ने लगाया चूना: शौचालय निर्माण के लिए किया 70 हजार का वारा-न्यारा


रसड़ा (बलिया)।  एक तरफ प्रदेश  सरकार भ्रष्टाचार मुक्त शासन  शिक्षा पर करोड़ों रुपए खर्च कर विकास के नाम पर  जनता का दिल जीतना चाहती है वहीं बलिया जनपद का बेसिक शिक्षा विभाग भ्रष्टाचार के आकंठ में डूबकर वर्तमान सरकार के अरमानों को तार तार करने पर तुला हुआ है। लाखों रुपए तनख्वाह पाने वाले प्रधानाध्यापक 70 हजार रुपए का बन्दर बांट कर लिया है ।

 बताते चलें कि रसड़ा शिक्षा क्षेत्र में कुल 174 प्राथमिक विद्यालय है  गुरुवार को ग्रामीणों के सूचना पर पहुंचे अखण्ड भारत न्यूज़ संवाददाता प्राथमिक विद्यालय मनिहा पहुंचे तो सहायक अध्यापिका बच्चों को पढ़ा रहीं थीं प्रधानाध्यापक अनुपस्थित रहे काफी देर बाद प्रधानाध्यापक पहुंचे तो संवाददाता ने पूछा कहां थे अबतक गुरु जी प्रधानाध्यापक निरंजन कुमार ने कहा टमाटर लाने गया था खैर ख़ैर संवाददाता ने कहा ग्रामीणों का आरोप है कि  वर्षों से इस विधालय पर हैं कभी कभार आते हैं और शौचालय का पैसा बंन्दर बांट कर लिया है । कुछ सफाई में कहना चाहते हैं इस बात पर गुरु जी  बंगले झांकने लगें हालांकि ग्रामीणों ने बताया कि सहायक अध्यापिका के सहारे ही स्कूल चल रहा है कागजों पर यह स्कूल आल इज़ बेल , मगर धरातल पर सच्चाई कुछ और दिखाई पड़ा 70 हजार ख़र्च के बाद शौचालय  नहीं बना ऐसा ही कुछ नजारा शिक्षा क्षेत्र रसड़ा के प्राथमिक विद्यालय मनिहा पर देखने को मिला।

 मनिहा गांव के जयराम राम, प्रदीप कुमार  ने आरोप लगाया की काफी दिनों से इस विधालय पर प्रधानाध्यापक निरंजन कुमार है विभाग से कई बार शिकायत करने के बाद भी कुछ नहीं हुआ इस विधालय पर कभी कभार आते हैं और  रंगाई पुताई शौचालय का पैसा भी खा गए हैं जो अबतक चालु नहीं है और इसी लिए हमारे बच्चे सरकारी स्कूल में ना जाकर प्राईवेट स्कूल में भेजना पड़ता है हम ग्रामीणों कि मांग है कि इस विधालय  को उच्च अधिकारियों से जांच कराकर तत्काल  कठोर कार्रवाई   की मांग किया  है ।                       इस पूरी घटना को अखण्ड भारत न्यूज़ संवाददाता ने बलिया बेसिक शिक्षा अधिकारी सन्तोष कुमार राय को अवगत कराया तो उन्होंने कहा कि शुक्रवार को खंड शिक्षा अधिकारी जांच करने के लिए जायेंगे अगर जांच में सही मिला तो कार्रवाई जरूर किया जायेगा ।

रिपोर्ट पिन्टू सिंह

No comments