Breaking News

> > >

जीत ली कोरोना से जंग : हरियाणा में 6 और 8 साल के भाई-बहन ने 15 दिन में कोरोना को हराया


सिरसा. हरियाणा के सिरसा स्थित सिविल अस्पताल में डॉक्टरों के चेहरे मंगलवार को खिले हुए थे। सब मास्क लगाकर खुशी-खुशी घूम रहे थे। दरअसल, अस्पताल में भर्ती दो कोरोना संक्रमित बच्चे ठीक होकर अपने घर जा रहे थे। 8 और 6 साल के दोनों भाई-बहन 15 दिन तक अस्पताल में भर्ती रहे, आखिरकार दोनों ने कोरोना को हरा दिया। दोनों बच्चों के 15 दिन कैडी क्रश खेलकर बीते, एक ही बेड पर लेटकर गेम खेलते और कार्टून देखते थे और मां से वीडियो कॉल से बात करते थे। अस्पताल से जाते वक्त वे भी खुश थे। डॉक्टरों ने तालियां बजाकर घर के लिए दोनों बच्चों को रवाना किया।

दोनों बच्चों को अस्पताल से तालियां बजाकर डॉक्टरों ने घर भेजा। डॉक्टरों ने बताया कि दोनों बच्चे दिनभर मोबाइल में मस्त रहते थे। 



सिरसा की बंसल कॉलोनी में रहने वाली महिला 30 मार्च को कोरोना पॉजिटिव मिली थी। पिछले 15 दिन से उसकी तबीयत खराब चल रही थी। वह सिरसा में पीजी चलाती थी। उसके पति चंडीगढ़ में पीजी चलाते हैं। महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो उसके पति, बेटे (8), बेटी (6) , ससुर समेत घर के सभी सदस्यों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। 31 मार्च को जांच में दोनों बच्चे पॉजिटिव मिले थे। उन्हें सिरसा सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया था।


बच्चों के पिता और दादा समेत बाकी परिवार वालों की रिपोर्ट निगेटिव आई थी। पिता चंडीगढ़ से दो दिन बाद उनके पास पहुंचे। उन्होंने आते ही दोनों बच्चों को एक-एक मोबाइल दे दिया। फिर क्या था, मोबाइल मिलते ही बच्चों ने अपनी पसंदीदा कैंडी क्रश वीडियो गेम और कार्टून शुरू कर दिए। एक बेड पर लेटकर दोनों दिन भर गेम और कार्टून देखते। उनकी मां रोहतक पीजीआई में भर्ती थी। ऐसे में अपनी मां से घंटो-घंटो वीडियो कॉल करते। दूसरे अस्पताल में क्वारैंटाइन किए गए दादा को भी वीडियो कॉल करके बात करते थे। इस तरह दोनों के 15 दिन कब बीत गए पता ही नहीं चला।


सिरसा सिविल सर्जन एसके नैन ने बताया कि बच्चे मोबाइल में दिन भर मस्त रहते थे। वे हमारे द्वारा दिए गए हर निर्देश को मानते थे। दवाई समय पर लेते थे। तभी जल्दी ठीक हो गए। उनकी पहली दो रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी लेकिन फिर लगातार दो रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई। 
साभार- डीबी

No comments