Breaking News

> > >

बोले कोरोना के योद्धा: देश को इस आफत से उबरने पर है पूरा ध्यान




बलिया : असर्फी अस्पताल में कोरोना की किसी भी परिस्थिति से लड़ने को तैयार मेडिकल टीम में डॉ बीएल मण्डल भी है। इस गम्भीर आपदा से लड़ाई के प्रति इनका भी हौसला पूरी तरह बुलन्द है। झारखण्ड के मूल निवासी और सीएचसी नरहीं में कार्यरत डॉ मण्डल ने बताया कि जनकल्याण की जो शपथ सेवा शुरू करने के दौरान ली जाती है उसको पूरा करने का यही सबसे उपयुक्त समय है। उन्होंने बताया कि उनका परिवार लॉकडाउन से पहले ही गांव चला गया था और लॉकडाउन की वजह से आ नहीं पाया। इस स्थिति में जाना भी मुमकिन नहीं। लेकिन, आज परिवार से बढ़कर कहीं ज्यादा जरूरी है कि देश को इस परिस्थिति से उबारा जाए। बॉर्डर के सिपाही की तरह इस आफत को भगाने के लिए जो कुछ भी करना होगा, हमेशा तैयार रहेंगे।


कोरोना के खिलाफ चल रही जंग में चुने जाने को लेकर स्टाफ नर्स पूनम वर्मा का भी उत्साह सातवें आसमान पर है। पूनम का कहना है कि मेडिकल से जुड़े स्टाफ के लिए सामान्य से लेकर गंभीर बीमारी तक का इलाज करना आम बात है। कोरोना वायरस नई बीमारी तो है, पर इस पर भी हम बहुत जल्द विजय पा लेंगे। मूल रूप से रसड़ा की रहने वाली पूनम का पूरा परिवार फरीदाबाद में रहता है।

पूनम ने बताया कि यहां ड्यूटी करने के बारे में पता चला तो घबराहट तो हुई, लेकिन इस बात को लेकर गर्व भी हुआ कि इस महत्वपूर्ण अभियान के लिए मुझे चुना गया है। पहले सुरक्षा के उपाय को लेकर कुछ चिंता भी थी तो यहां आने के बाद वह भी दूर हो गई। जिला प्रशासन द्वारा पीपीई किट और अन्य सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करा दिया गया, तब से डर भी पूरी तरह खत्म हो गया है। अब तो बस उसी घड़ी का बेसब्री से इंतजार है, जब सबकी एकजुटता की बदौलत यह बीमारी देश छोड़कर भाग जाए।



रिपोर्ट धीरज सिंह

No comments