Breaking News

> > >

जानें कहां मामूली विवाद में चटकी लाठियां और पुलिस को करनी पड़ी कार्रवाई

   



मनियर, बलिया। नाली पर चकरोड फेंके जाने को लेकर उपजे विवाद में दो लोगों को पुलिस ने शान्ति भंग मे किया पाबंद मामला मनियर थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत सरवार ककरघट्टी एवं रानीपुर मौजे के सीमा पर का है। 

जानकारी के अनुसार सरवार ककरघट्टी के प्रधान मनरेगा मजदूरों से चक नाली की जमीन पर सोमवार के दिन चक मार्ग फेंकवा रहे थे। वहां  रानीपुर मौजे के काश्तकार गाया बर्मा निवासी मनियर देवापुर ने आपत्ति जाहिर किया तथा अपने जमीन में फेंके गए चक मार्ग को बराबर करने लगे जिसको लेकर ग्राम प्रधान के लड़के व मनरेगा मजदूरों के साथ गाया बर्मा से विवाद हो गयी। दोनों पक्षों से एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाया जा रहा है।

 गाया वर्मा का आरोप है कि मेरे चक में चकरोड नहीं होने के बावजूद मेरे जमीन में चकरोड फेंकवाया जा रहा था। मैं इससे सहमत नहीं था तथा आपत्ति जताई। मैं और मेरा लड़का अपने खेत के मेड़ प्रधान के कहने पर बराबर करा रहे थे तब तक मजदूरों एवं ग्राम प्रधान व उनके लड़कों द्वारा मेरे ऊपर हमला बोल दिया गया। जिसके कारण मुझे चोटे आई। मैंने 112नंबर डायल कर पुलिस को सूचना दी तो मुझे ही लाकर हवलात में डाल दिया गया। 

वहीं चकनाली के दूसरे दिशा के काश्तकार विवेक लाल राम पुत्र स्वर्गीय विजय राम के तरफ से तहरीर दिया गया है कि गाया वर्मा व उनके दो लड़के फेंके गए चकमार्ग जोत रहे थे उसका मैं वीडियो बनाने लगा तो मुझे जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए उन लोगों द्वारा गाली दिया गया तथा मारपीट की गई। वहीं मनरेगा मजदूरों के तरफ से  एक तहरीर दिया गया है कि गया वर्मा के लड़कों द्वारा  महिला मजदूरों के साथ मारपीट किया गया है। 

 इस संबंध में प्रभारी थानाध्यक्ष उपनिरीक्षक विजय शंकर त्रिपाठी से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि चकरोड फेकने में उपजे विवाद को लेकर गाया वर्मा एवं उनके पुत्र अविनाश वर्मा को शांति भंग की धारा में चालान किया  जा रहा है। मामले को बढ़ा चढ़ा कर बताया जा रहा है। इसकी जांच के बाद उचित कार्यवाही की जाएगी।



रिपोर्ट राममिलन तिवारी

No comments