Breaking News

> > >

क्या योगी आदित्यनाथ सरकार का भ्रष्टाचार मुक्त नारा ऐसे ही सफल होगा ?



मुझे प्रसन्नता होती है जब मैं सुनता हूं कि हमारे स्थानीय जनप्रतिनिधियों के प्रयास से द्वाबा में राजकीय महाविद्यालय,बैरिया; राजकीय इंटर कॉलेज,नौरंगा; तथा राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज,दयाछपरा स्वीकृत हुआ है और इन संस्थानों की देर सवेर द्वाबा में स्थापना भी होगी। विपक्ष में होने के बावजूद मैंने समय-समय पर इन जनहित के कार्यों के लिए बधाई भी दिया। परंतु आश्चर्य होता है जब एक दागी फर्म आरपी कंस्ट्रक्शन लखनऊ द्वारा कटान रोधी कराए गए कार्यों में भारी अनियमितता की तरफ इन माननीय जनप्रतिनिधियों का ध्यान नहीं जाता? लगता है या तो वह दागी फर्म का ठेकेदार हमारे जनप्रतिनिधियों पर भारी है या फिर हमारे जनप्रतिनिधियों ने उस भ्रष्ट ठेकेदार के आगे समर्पण कर दिया है।यह वहीं फर्म है जिसने 29 करोड़ की लागत से दुबेछपरा रिंग बांध का मरम्मत कराया था और वह बांध तिनके की तरह बह गया। इस प्रकरण में विभाग को नियमानुसार एफआईआर कर फर्म आरपी कंस्ट्रक्शन लखनऊ को काली सूची में डाल देना चाहिए था। परंतु भ्रष्ट बाढ़ विभाग ने उस फर्म की धरोहर राशि (सिक्योरिटी मनी)भी जब्त करना उचित नहीं समझा जो निविदा सहमति(कॉन्ट्रैक्ट एग्रीमेंट) के समय जमा होती है।उससे भी ज्यादा आश्चर्यजनक बात तो यह है कि इस भ्रष्टाचार का जनक अधीक्षण अभियंता सिंचाई विभाग लगभग 3 वर्षों से जिले में तैनात है। क्या योगी आदित्यनाथ सरकार का भ्रष्टाचार मुक्त नारा ऐसे ही सफल होगा? नौरंगा वासियों से निवेदन है कि अपने स्तर से ही कार्य पर कड़ी नजर रखें ताकि उनका आशियाना बच सके।


विनोद सिंह
कांग्रेस वरिष्ठ नेता व इंटक जिलाध्यक्ष बलिया

No comments