Breaking News

रेवती बाजार सील होने से दुकानदारों के समक्ष हुई फांका कसी की स्थिति



रेवती (बलिया) वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण से बचाव हेतू लागू लाक डाउन के चलते दो महिने से नगर के छोटे व फुटपाथी सैकड़ो्की् व्यवसाइयों हालत पहले से ही खस्ता हो चुकी है । इधर गत 25 मई को नगर में  कोरोना पाॅजिटिव पाये जाने पर वार्ड नं छ को हाट स्पाट घोषित कर बीज गोदाम जाने वाले मुख्य मार्ग, सुपर मार्केट, मठिया बाजार, सब्जी बाजार सहित नगर के आधा से अधिक मुख्य ब्यवसायी केन्द्र को बेररिंग कर सील कर दिया गया है । 27 मई से नगर में कार्यरत सभी बैंको के 21 दिन के लिए बंद कर दिये जाने से रोजी, रोटी का संकट उत्पन्न हो गया है। गरीब व असहायों को सरकार तथा समाजसेवीयों द्वारा कुछ राहत दी जा रही है किन्तु मध्यम व फुटपाथी दुकानदारों की हालत पर कोई गौर नहीं कर रहा है । नगर के हार्ड वेयर के ब्यवसायी मानू सिंह का कहना है कि जब पेन्ट व पोषाहार का सामान सप्लाई हो रहा है तो छोटे व्यवसायियों की दुकान हाट स्पाट के नाम पर बंद करने से पहले इनके रोजी रोजगार की ब्यवस्था सुनिश्चित किया जाना चाहिए था । जनरल सामान के विक्रेता कौशल उपाध्याय का कहना है कि रेवती के दियारांचल के पचासों ग्राम सभाओं की जनता का लेन देन बैंकों से चलता है । लाक डाउन में  सोशल डिन्टेसिंग के तहत जमा निकासी का कार्य चल रहा था । ऐसे में बैंक बंद कर दिये जाने से गांव देहात के लोगों के समक्षा फांका कसी की स्थिति उत्पन्न हो गई है । वही रेवती का बच्चा खुचा ब्यवसाय भी चौपट हो जायेगा । एल आई सी अभिकर्ता रघुनाथ यादव का कहना हैं कि कोरोना संक्रमित पाये जाने वाले परिवार के लोगों को न तो कोई सामान दे रहा है ।और न काम । उल्टे भयवश उनसे लोग दूरी बना रहें हैं । ऐसे में कोरोना से बाद में भोजन के अभाव में  लोग पहले मरेगे । बर्तन दुकानदार अजय केशरी का कहना है कि इतनी प्रचंड गर्मी में कोरोना वायरस कम होने के बजाय और फैल रहा है । नगर , गांव का कोई मुहल्ला व गली नही बचा जहां परदेशी न आये हो । संक्रमित के नाम पर मुहल्ले के साथ पूरा क्षेत्र हाट स्पाट घोषित कर लोगों को कैद करना उन्हें भूखों मारने के सामान है । जब लोग जागरूक होकर लाक डाउन का स्वत पालन कर रहें हैं तो हाट स्पाट घोषित होने से पहले कुछ रियायत व इसमें सहूलियत मिलनी चाहिए। कमोवेश यही स्थिति थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर व भैसहां के उमती गांवों की है।



पुनीत केशरी

No comments