Breaking News

> > >

घाघरा का तेवर देख सहमे लोग, गांव में घुसा बाढ़ का पानी



बाँसडीह, बलिया:  कोरोना महामारी में लोग जहाँ परेशानी में हैं। वहीं घाघरा नदी का रौद्र रूप कम नही हो रहा है। बताया जाता है कि बाँसडीह तहसील अंतर्गत रामपुर नम्बरी गांव में घाघरा नदी का पानी पहुँच गया है। अब ग्रामीणों  में दहशत का माहौल बन गया है। हालाँकि घाघरा नदी के जलस्तर में घटाव हो रहा है लेकिन खतरा बिंदु से ऊपर अभी भी घाघरा नदी का उफान जारी है। गुरुवार के सुबह 8 बजे डीएसपी मीटर गेज पर घाघरा नदी का जलस्तर 64.400 मापा गया। जब कि खतरा बिंदु 64.01 है। इस प्रकार घाघरा नदी खतरा बिंदु से ऊपर ही उफान पर है। 

 *तटीय इलाका में लगातार भ्रमण*

घाघरा नदी के तटीय इलाका स्थित स्थित प्रभावी गांवों की तरफ तहसील प्रशासन का लगातार भ्रमण हो रहा है। उपजिलाधिकारी दुष्यंत कुमार मौर्य ने बताया कि शासनादेश के निर्देशानुसार , तहसीलदार गुलाब चन्द्रा सहित क्षेत्रीय लेखपालगण लगातार जायजा ले रहे। ताकि किसी को कोई परेशानी न हो सके। मनियर से लेकर रेवती होते हुए बैरियां इलाका तक घाघरा नदी का पानी बढ़ते जा रहा नजर हर तरफ बनी हुई है।बता दें कि किसानों के हजारों एकड़ उपजाऊ खेत घाघरा नदी में समाहित हो चुके हैं। तो वहीं ककरघट्टा , नवका गांव , रिगवन छावनी , मलाही छावनी , टिकुलिया , सहित दर्जनों गांवों को अपने जद में लेने को घाघरा नदी उतारू है। यही वजह है कि ग्रामीणों का हौसला पस्त दिखने लगा है। 

बाढ़ को देखते हुए बांसडीह तहसील क्षेत्र के खादीपुर - सुल्तानपुर  में उपजिलाधिकारी बांसडीह दुष्यंत कुमार मौर्य  की अध्यक्षता में ग्राम प्रधान एवं ग्रामीणों के साथ बाढ़ के दृष्टगत बैठक हुई। जिसमे सी ओ बांसडीह दीपचंद्र ,तहसीलदार बांसडीह गुलाबचन्द्रा, प्रधान खादीपुर ,सुल्तानपुर लेखपाल आशुतोष कुमार पांडेय, दयानंद गोस्वामी  एवं चौकी इंचार्ज सुल्तानपुर चक्रपाणि जी भी उपस्थित रहे।ग्रामीणों को उपजिलाधिकारी ने  बाढ़ के संबंध में जागरूक किया ।रिंग बंधा की सुरक्षा हेतु बाढ़ विभाग को निर्देशित किया गया ।मलाही चक ,सैनीपुर आदि ग़ैरबाद ग्रामो के सिवान को कटाव से बचाने हेतु भी तत्काल बाढ़ विभाग को निर्देशित किया गया है।


रिपोर्ट रविशंकर पांडेय

No comments