Breaking News

बलिया के इस सीएचसी पर उजागर हुई विभागीय उदासीनता, जान देकर कीमत चुका रहें मरीज


रसड़ा (बलिया): एक तरफ़ उत्तर प्रदेश सरकार  स्वास्थ्य पर सबको स्वस्थ्य रखने के लिए पानी की तरह पैसा बहा रही है मगर सीएचसी स्वास्थ्य विभाग मरीजों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए कितना संवेदनशील है इसका सहज ही अनुमान रसड़ा स्वास्थ्य केंद्र के वर्तमान स्थिति को देखकर लगाया जा सकता है। इस महत्वपूर्ण अस्पताल की हालत यह है कि सैकड़ों मरीजों को इलाज के नाम पर उनके जान से खिलवाड़ ही किया जा रहा है। वैसे तो यहां वर्षों से यहां एमडी व विषेषज्ञ चिकित्सकों की कमी रही है मगर पिछले दिनों कागजों पर दो सर्जन का खबर अखबारों की सुर्खियां बटोरने का कोई कोर कसर नहीं छोड़ी मगर धरातल पर आज तक दर्शन नहीं हुआं। 

नतीजा यह है कि हल्की बारिश में जलजमाव  गन्दे पानी व गंदगी देखकर उन्हें मऊ, वाराणसी आदि को जाना पड़ रहा है और कभी-कभी तो समय पर इलाज न मिल पाने के कारण मरीज रास्ते में अपनी जान भी गवां रहे हैं ।  शासन की भारी उदासीनता व लापरवाही का हाल बयां करने के लिए यह फोटो काफी हैं। सबसे बड़ा सवाल यह है कि  वैश्विक महामारी कोवीड 19 में चिकित्सा कर्मी की बातों पर यकिन करें तो पहले यहां ओपीडी में काफी  मरीजों का इलाज होता था किंतु गंदगी देखकर मात्र 100-150 तक की सिमट जा रहा है जो काफी चिंता का विषय है। बताते चले कि यह अस्पताल रसड़ा क्षेत्र सहित गाजीपुर मऊ के आंशिक क्षेत्रों के अलावा  पकवाइनार, चिकलहर के अतिरिक्त लाखों की आबादी वाले रसड़ा की स्वास्थ्य रक्षा करता चला आ रही है किंतु विभागीय उदासीनता व राजनीतिक पहल के अभाव में यह अस्पताल आज अपनी बदहाली पर आंसू बहाने को विवश है जो किसी भी सूरत में रसड़ा के लोगों व मरीजों के लिए ठीक नहीं है।

हालांकि इस सन्दर्भ में काफी वर्षों से अधीक्षक  वीरेंद्र कुमार है संवाददाता ने यहां की समस्या सहित गंदगी का हवाला देते हुए ध्यान आकृष्ट कराया और कहा कि आप यहां के राजा है और आपकी राज्य में यहां की प्रजा को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है यह कहा तक ठीक है तो उन्होंने कहा कि नगर पालिका का विकास वाला नाला चोक लिया है इसी वज़ह से पानी नहीं निकल रहा है।यह तो यहां के राजा का जनता के प्रति ज़बाब है।

खैर इस सीएचसी पर वर्षों से तैनात लिपिक यानी महामंत्री से सफाई व्यवस्था पर बातचीत किया  तो कहने लगे कि विभाग को लेटर लिखा गया है यानी कुल मिलाकर यहां के राजा व महामंत्री के वज़ह से गरीब जनता को परेशानियों का सामना काफी दिनों से करना पड़ रहा है।

वैसे महामंत्री का रसड़ा नगरा मार्ग पर अपना विशाल नर्सिंग होम भी विभागीय रहमों करम पर दिन नियमों को ढेंगा दिखाते हुए संचालित हो रहा है।

रिपोर्ट पिन्टू सिंह

No comments