Breaking News

नहीं हुआ कोटे की दुकान का चयन तो आक्रोशित आवाम ने ब्लॉक कर्मियों को बनाया बंधक





मनियर (बलिया ):विकास खण्ड मनियर के ग्राम पंचायत मानिकपुर में उच्चअधिकारीयो के निर्देश  के बावजुद भी 
  निर्धारित तिथि शुक्रवार को कोटे की दुकान को उच्चाधिकारियों द्वारा चयनित कराने नही पहुंचने  से  आक्रोशित महिलाओं ने सैकडो की संख्या मे   ब्लांक मुख्यालय पर  पहुंच कर ब्लांक कर्मचारियों को बंधक बनाकर बाहर से ताला जड़ दिया व जमकर बवाल काटा । व प्रशासन बिरोधी नारे लगाने के साथ ही धरने पर बैठ कर उच्चाधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग करने लगे। सुचना के बाद पहुंची मनियर पुलिस ने लाख समझाने के बाद भी तीन घंटे तक कर्मचारियों को बंधक बनाएं रखा। अंत में थानाध्यक्ष मनियर ने उच्चाधिकारियों से अवगत कराते हुए विडियों से वार्ता कर अग्रीम तिथी पर चुनाव कराने की  लिखित आश्वासन के बाद धरने को समाप्त कराया।


बताया जाता है कि शासन के निर्देश पर शुक्रवार को स्वंय सहायता समूह की बैठक कर कोटे की दुकान  आंवटन होना सुनिश्चित था।  सुबह से ही पंचायत भवन मानिकपुर के प्रांगण में महिलाओं का जमावड़ा हो गया। लेकिन  तय तिथी पर अपराह्न 12 बजे तक नामित चुनाव अधिकारी  नही पहुंचे तो  ग्रामीणों ने  दुरभस पर  फोन से बात की   पर समुचित अश्वासन न मिलने से खफा सैकड़ों की संख्या में महिलाओं ने विडिओ मनियर चोर  व जातिवादी का कथित आरोप लगाते हुए  उनके  खिलाफ नारेबाजी करते हुए ब्लांक मुख्यालय पर पहुंच कर उपस्थित सजिव   बडेबाबु सहित दर्जनों  कर्मचारियों को गेट के  अन्दर कर कार्यालय के मुख्य गेट बन्द कर धरने पर बैठ गई। व मांग करने लगी कि किन कारणों से नियत तिथि पर दुकान का आवंटन नही कराया गया। समूह की महिलाओं का आरोप था कि विडियो अपने शुभचिंतकों की कोटे की दुकान आवंटित करने के लिए बार बार टाल मटोल कर रहे है। महिलाओं की मांग थी कि जब गांव में जब दो स्वंय सहायता समूह है। और एक स्वंय सहायता समूह चुनाव में भागीदारी न होने का लिखित प्रार्थना पत्र  बीडीओ को दे चुका है  तो चुनाव अधिकारियों द्वारा चुनाव का टाल मटोल करना संदेह के घेरे में है। इन्ही मांगों को लेकर महिलाओं ने  ब्लांक मुख्यालय के प्रांगण  उच्च अधिकारीयो के आने की माग को लेकर  बैठी रही। ब्लांक कर्मीयों के बंधक बनाने की सुचना पर पहुंची मनियर पुलिस ने लाख समझाने की कोशिश की। लेकिन उच्चाधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांगों को लेकर महिलाएं अपनी जिद पर तीन घंटे तक  अड़ी रही। थानाध्यक् मनियर नागेश उपाध्याय ने करीब 3 घंटे तक महिलाओं को समझाने का प्रयास करते रहे लेकिन महिलाएं एक भी मानने को तैयार नही थी। थानाध्यक्ष ने उच्चाधिकारियों से वार्ता के बाद विडिओ मनियर रमेश कुमार यादव से बात कर अग्रिम तिथि तय कर कर्मचारियों को बंधक से मुक्त कराया।

बीडीओ ने  लिखित आश्वासन दिया कि  दो के बाद  दुसरा कोई समुह का चयन नही किया जायेगा व अगामी  27 सितम्बर को बैठक कराकर चयन की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।  तब जाकर बनधक से अधिकारीयो को मुक्त कराकर धरने को समाप्त कराया वही मौके पर उस्थित
 एडीओ पंचायत वकील यादव व ग्राम पंचायत अधिकारी दिनेश सिंह के लिखित आश्वासन देने के बाद कोई भी दो के बाद तीसरा समूह नही भाग लेगा। इस आशय के निर्णय के बाद मामला शांत हुआ। धरने में राजमुनी देवी, रानी चौहान, रंजू देवी, सुनीता वर्मा, अंजू देवी, सुरसती देवी, शीला चौहान, प्रियंका, पुष्पा, मरछिया देवी, लिलावती आदि रही।





रिपोर्ट राम मिलन तिवारी

No comments