Breaking News

टीएस बंधा के देवपुर मठिया रेगुलेटर का फाटक खुलने से किसानों ने ली राहत की सांस

 

रेवती (बलिया) बाढ़, कटान , आग लगी , बरसात आदि प्राकृतिक आपदा से गंगा व घाघरा के तटवर्ती बसिंदे प्रति वर्ष त्रासदी झेलने के लिए विवश है । किन्तू विगत दो वर्षों से लगातार बरसाती पानी के जल जमाव से लोगों की मुश्किलें इस बार कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है। पूरे एक महिने से हजारों एकड़ कृषि योग्य भूमि जलमग्न होने से सैकड़ों परिवार भुखमरी के शिकार होने के कगार पर है। लगान पर खेती करने वालों की मानों कमर ही टूट गई है । मक्का व धान की फसलें पूरी तरह चौपट हो चुकी है। स्थानीय विकास खंड के मुनछपरा, अचलगढ, नवकागांव, कंचनपुर, केवा, पियरौटा, चौबेछपरा, छेड़ी, नौवाबारा, रामपुर , केवा , दलछपरा, श्रीनगर, भाखर, बघमरिया , वशिष्ठनगर प्लाट, भैसहां, हडियाकला आदि दर्जनो ग्राम सभाओं के छोटे व मझौले किसान फसलों के जलमग्न होने से तबाह हो चुके हैं । स्थिति में सुधार की जगह मुनछपरा के पासवान व साहनी बस्ती, दलछपरा के यादव बस्ती, भाखर के परमानंद के डेरा, भैसहां के यादव व राजभर बस्तियों में बरसात का पानी प्रवेश कर गया है । क्षेत्रवासी रमाशंकर सिंह व पूर्व प्रधान विरेश कुमार तिवारी ने बताया कि सन 1980 के दशक में पूर्व मंत्री स्व बच्चा पाठक ने खानपुर डुमरिया से अधैला, कंचनपुर, केवा , चौबेछपरा, छेड़ी, नौवाबारा, दलछपरा, भाखर ,बघमरिया आदि गांवों की जल निकासी के  लिए 22 कि मी लंबा यमुना ड्रेन (नहर ) बनवाया था । इधर का सारा पानी देवपुर मठिया रेगुलेटर से टीएस बंधा के उत्तर साईड घाघरा नदी में समाहित हो जाता था।

किसानों की मांग पर देवपुर मठिया रेगुलेटर का फाटक खुला 

रेवती : जल जमाव की समस्या को देखते हुए विजय ओझा, बृजेश तिवारी, अशोक कुमार यादव, बहादुर तिवारी, आनंद पांडेय आदि विभिन्न गांवों के किसानों की मौजूदगी में तहसीलदार बैरिया शिवचरण दुबे तथा सिंचाई विभाग के अवर अभियंता आर के यादव द्वारा रेगुलेटर का फाटक शुक्रवार को खोलवा दिया गया। जिससे किसानों में काफी प्रसन्नता व्यापत है । तहसीलदार श्री दुबे ने किसानों को आश्वस्त किया कि एक सप्ताह में रेगुलेटर के दोनों तरह जमे शिल्ट की साफ सफाई करा दी जायेगी । इधर किसानों द्वारा रेगुलेटर का फाटक खुलवाने का लगातार चल रहा प्रयास सफल रहा ।
------
पुनीत केशरी

No comments