Breaking News

प्रधानमंत्री आवास का री वेरिफिकेशन जारी


रसड़ा (बलिया) प्रधानमंत्री  आवास योजना गड़बड़ी सूची  की शिकायत के बाद बेशक री वेरिफिकेशन का सिलसिला जारी है  लेकिन सूची में अपात्रों के चक्रव्यूह को भेदना अधिकारियों के लिए इतना  आसान भी नहीं है, जितना वो समझते है।
बताते चलें कि बलिया जनपद के मुख्य विकास अधिकारी इमानदार छवि होने के नाते  आवास योजना से जुड़ी सूची में गड़बड़ी की सूचना लगातार मिल रही थी।मुख्य विकास अधिकारी ने अलग-अलग क्षेत्र में जांच टीम बनाकर डोर टू डोर घर जाकर पात्र व्यक्तियों के सत्यापन का निर्देश दिया है। जांच के आदेश के बाद उन पात्र व्यक्तियों के चेहरे  खिल उठे हैं मगर जिनका नाम सूची में नही था। वहीं, अपात्रों का चेहरा मुरझाए हुए है। ग्रामीणों के अनुसार रसड़ा ब्लॉक की ग्रामसभा माधोपुर गांव में  पात्र विधवा महिला है जिसका नाम संजू देवी पत्नी स्वर्गीय प्रकाश राम शासन प्रशासन इसका जांच भी करा सकता है ।
मगर वर्षों से ग्राम विकास अधिकारी से गुहार लगा रही है मगर ग्राम पंचायत अधिकारी ने बोला था बग़ैर पैसा का नहीं मिलता है आवास खर्चा लगता है लिहाजा गरीब ने खर्चा नहीं जुटा पाई और संजू देवी का  नाम सूची में नहीं है। वहीं कुछ अपात्रों को 'रेवड़ी बांटने की तर्ज पर प्रधान व पंचायत अधिकारी कि मिलिभगत से  अपनो-अपनो को दे' की तर्ज पर सूची में डाल दिया गया है। मुख्य विकास अधिकारी विपिन जैन के आदेश से बेशक री वेरफिकेशन  का कार्य युद्ध स्तर पर धरातल पर चेक किया गया जा रहा है  लेकिन सम्बंधित ग्राम सभा में ग्राम प्रधान व सचिव के चहेतों का नाम निकालना इतना आसान नहीं होगा, जितना वो समझते है। जांच की सूचना के बाद से ही अपात्रों ने जुगाड़ तकनीक अपनाने लगे हैं।
हालांकि की इस खबर पर ग्राम विकास अधिकारी से दर्जनों बार सम्पर्क किया मगर जिम्मेदार पंचायत अधिकारी फोन रिसीव करना जरूरी नहीं समझें।
हालांकि इस पंचायत अधिकारी का चर्चा जोरों पर है विकास का पैसा जहां जहां रहा है वहां का विकास कम इस सचिव का निजी विकास खुब हुआ है।
चाहें व सरया गांव हों या माधोपुर विभाग अगर सही से जांच करें इस सचिव का तो काफी सरकारी पैसा का बटंर बांट किया है।



रिपोर्ट : पिन्टू सिंह

No comments