Breaking News

हेल्पलाइन नम्बरों पर जोड़ा जाए भोजपुरी व बुंदेलखण्डी भाषा का आप्शन, रतसर प्रधान स्मृति सिंह ने मुख्यमंत्री योगी को दिया सुझाव




— *रतसर प्रधान स्मृति सिंह ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मुख्यमंत्री से हुई वार्ता में दिए सुझाव*


बलिया: 'महिला सुरक्षा सप्ताह' के तहत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को प्रदेश की चार महिला ग्राम प्रधानों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए वार्ता की। इस दौरान बलिया की रतसर कला की ग्राम प्रधान स्मृति सिह ने अहम सुझाव दिया। विशेष रूप से उन्होंने मुख्यमंत्री जी से यह मांग की कि हेल्पलाइन नम्बरों पर भोजपुरी व बुंदेलखण्डी भाषा का आप्शन जोड़ा जाए। इससे ग्रामीण क्षेत्र की कम पढ़ी—लिखी महिलाओं को, जो हिन्दी नहीं बोल सकती हैं, उनको सहूलियत मिलेगी। इस वीडियो कांफ्रेंसिंग में जिलाधिकारी एसपी शाही भी थे।



मुख्यमंत्री ने प्रधान स्मृति सिंह से गांव में कराए गए विकास कार्यों के बारे में जानकारी ली। कहा कि आपरेशन कायाकल्प के ​जरिए गांव के स्कूल को बेहतर करवा दें। गांव में हर घर शौचालय हो और उसका प्रयोग हर कोई करें। खुले में शौचमुक्त गांव होना चाहिए। गांव में हर योजनाएं पात्रों तक पहुंचे। प्रधान स्मृति सिंह ने बताया कि स्कूल को बेहतर कराने के साथ ऐसी व्यवस्था की है जिससे गांव की इच्छुक महिलाएं काफी हुनर भी सीख सकती हैं।



प्रधान स्मृति सिंह ने सुझाव देते हुए कहा कि महिला हेल्पलाईन व अन्य हेल्पलाइन नम्बरों पर भोजपुरी व बुंदेलखण्डी भाषा का आप्शन होना चाहिए। वजह कि ग्रामीण क्षेत्रों की बहुत सारी ऐसी महिलाएं हैं जो हिन्दी समझ तो लेती हैं, पर बोल नहीं पाती। ऐसे में हेल्पलाईन नम्बर पर फोन करने के बाद भोजपुरी या बुदेलखण्डी बोलती हैं और वहां समझने में दिक्कत होती है। अगर इन दोनों क्षेत्रीय भाषाओं को भी इंटरेक्टेड वॉयस रिस्पांस सिस्टम पर जोड़ दिया जाए तो ऐसी महिलाओं को काफी सहुलियत मिलेगी। हेल्पलाइन नम्बरों पर फोन करने के लिए इनको किसी और का सहारा नहीं लेना पड़ेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने भी इस सुझाव को बेहतर बताते हुए इस पर ठोस पहल करने का भरोसा दिलाया। वीडियो कांफ्रेंसिंग में शासन से आईं मिशन शक्ति की नोडल अधिकारी एडीएम अमेठी वंदिता श्रीवास्तव, डिप्टी कलेक्टर सीमा पाण्डेय, डीआईओएस भाष्कर मिश्र, डीपीआरओ शशिकांत पाण्डेय, सूचना एवं प्रोद्योगिकी अधिकारी निजामुद्दीन, जोसेफ आदि मौजूद थे।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments