Breaking News

> > >

प्रेमिका संग रंगरेलियां मनाते धराया आशिक, ग्रामीणों ने की खातिरदारी

 


 मऊ। उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद क्षेत्र के एक्स्ट्रा मटेरियल अफेयर (विवाहेत्तर संबंध) के मामलों में अक्सर सोची समझी रणनीति फेल मार जाती है और मौके पर ऐसी पोशीदगी परेशानी का सबब बन जाता है ,जो घर समाज तथा परिवार के बीच शर्मिंदगी का एक बहुत बड़ा कारण बन जाता है। एक 35 वर्षीय शख्स एक अविवाहिता के साथ रंगीन मिजाजी के अश्क में डूबा हुआ था। आसपास के लोगों ने उसके रंगीनियत  के रंग में भंग डाल दिया। यद्यपि की यह युगल आसपास के लोगों की नजरों में नहीं आते, परंतु उनकी बानगी ऐसी बन गई कि ना चाहते हुए भी लोगों की निगाहें उस तरफ चली गई, और पकड़े गए।


बताते हैं कि विवाहित शख्स दो बच्चों का बाप है ,और कोलफील्ड्स में काम करता है ।गांव की ही  अविवाहित युवती से उसका काफी दिनों से नैन मटक्का चल रहा था, जिसका गाहे-बगाहे वह एक्स्ट्रा मटेरियल अफेयर के तहत रंगीन मिजाजी के नाव पर सवार होता रहता था ।जब वह कोलफील्ड से चला तो अपने गांव की माशूका को भी फोन करके रतनपुरा स्थित स्टेट बैंक के बगल में एक निर्जन मकान में उसे बुला लिया। और मुलाकात का ठौर ठिकाना चुना और ठिकाना ऐसा चुना कि लोगों की नजरें स्वभाविक रूप से उधर चला गया। 


उसने अपने ही एक रिश्तेदार के उस आवासीय प्लाट को चुना जिसमें अक्सर ताला लटका रहता है। माशूका के पहुंचने से पहले ही उसने भवन स्वामी से कमरे का चाबी ले लिया ,और रंगी नियत की सारी चासनी का उसने इंतजाम भी कर लिया ।


कमरा चुकी निर्जन है ,वहां कोई रहता नहीं। लिहाजा उसने बगल से पुआल का ढेर लगा कर के उसे बिस्तर का रूप दिया। गद्दा रजाई भी कमरे के भीतर पहुंचा दिया। रंगीनियत को और भी बेहतर बनाने के लिए बिसलरी का पानी  व्हिस्की की दो बोतल , नमकीन, आमलेट इत्यादि सब कुछ कमरे के अंदर पहुंचा दिया ।साय काल 8:00 बजे के लगभग जब उसकी माशूका पहुंची तो दोनों अंदर कमरे में पहुंच गए, और चोचले बाजी शुरू कर दी, इसी बीच आसपास के लोगों ने वहां पहुंचकर रंग में भंग डाल दिया। प्रेमी और प्रेमिका पिछले दरवाजे से नीचे नाले में कूद गए। परंतु आशिकी के इस दौर में  शोहदे टाइप के युवकों को यह भी काफी नागवार लगी और उन लोगों ने दोनों की पिटाई कर दी। इसी बीच किसी ने पुलिस को खबर कर दिया। 


पुलिस मौके पर पहुंच गई ,और इन दोनों का बीच बचाव करते हुए एक प्राइवेट चिकित्सालय में ले जाकर के उपचार करवाया। माशूका शातिर मिजाज लग रही थी, वह अपना नाम पता बताने में गुरेज कर रही थी ।बाद में पुलिस  को दूसरे स्रोतों से सब कुछ पता चल गया और दोनों के अभिभावकों को बुला करके उनके हवाले कर दिया। 


 उल्लेखनीय है कि  इश्क के रश्क में डूबे लोग जब रंगीनियत की सवारी करते हुए पकड़े जाते हैं तो स्वाभाविक रूप से शोहदे इसका भरपूर लाभ उठाते हुए उनके मोबाइल ,नगदी इत्यादि छीन कर अपनी जेबों के हवाले कर लेते हैं। इस घटना में भी ऐसा ही हुआ और  घटना को अंजाम देने के बाद वहां से रफूचक्कर हो गए ।क्योंकि ऐसी घटनाओं में प्रेमी प्रेमिका अपने सामानों को पाने के लिए कोई शिकवा शिकायत नहीं करते ।बल्कि वह मौके से भागने की फिराक में रहते हैं। ताकि घर परिवार की इज्जत नीलाम होने से बच जाए।



रिपोर्ट पिंटू सिंह

No comments