Breaking News

> > >

पूर्व विधायक के बेटे ने दी गर्भवती पत्नी की हत्या की सुपारी

 




 ईटानगर:  अरुणाचल प्रदेश में पूर्व विधायक की पुत्रवधु की हत्या के मामले में पुलिस ने चौंकाने वालाे  खुलासा किया है. गर्भवती महिला को जान से मारने के लिए 10 लाख रुपये में सौदा किया गया था. इस हत्याकांड को लेकर पुलिस की सुई किसी और की तरफ न घूमे इसके लिए पूरी वारदात को एक हादसे का रूप दिया गया. इनोवा कार के एक्सीडेंट में महिला की मौत होना दिखाया गया, लेकिन पूर्व विधायक की पुत्रवधु की हत्या के मामले में पुलिस ने पति सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस का कहना है कि इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड पति है.


ईटानगर पुलिस ने सात माह की गर्भवती महिला तेची मीना ऋषि की हत्या के मामले में पति रोनी लिशी के साथ चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. रोनी लिशी पूर्व विधायक लिशी लेगी का बेटा थीं. बता दें कि पांच नवंबर को मीना कारसिंगा में मृत अवस्था में मिली थीं. इस मामले में पुलिस जांच कर रही थी, जिसमें पूरे मामले से पर्दा उठ गया है. पुलिस ने इस मामले में पांच नवंबर को गाड़ी ड्राइवर दथंग सुयांग को गिरफ्तार किया था, जिससे पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ. इसके बाद पुलिस ने 10 नवंबर को रोनी लिशी को गिरफ्तार कर लिया.



इस मामले का खुलासा करते हुए आईजीपी चुखू आपा ने बताया कि तिरप पुलिस ने इस मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया, जिसमें कपवांग लेटी जो एनएससीएन संगठन से संबंध रखता है, इसके अलावा तन्नी खोयांग और दमित्रीत खोयांग को गिरफ्तार किया है. इस मामले की जांच के लिए स्पेशल टीम बनाई गई थी, जिसमें एसपी जिमी चिराम, नाहरलागुन एसडीपीओ राईक काम्सी, बांदरदेवा पीएस ओसी इंस्पेक्टर गोचम तस्सा, आईओ इंस्पेक्टर मिनली गेई और इंस्पेक्टर खेससी यांगफो के साथ-साथ तिरप एसपी कार्डक रीबा और खोंसा पीएस ओसी इंस्पेक्टर वांगोई कामहुआ शामिल थे.



 उन्होंने बताया कि ड्राइवर दथंग सुयांग से ज​ब पूछताछ की गई, तो उसने इस हत्याकांड से पर्दा उठाया. उसने बताया कि पति रोनी लिशी ने मीना को मारने की योजना बनाई थी. पत्नी की हत्या के लिए उसने 10 लाख रुपये देने का वादा किया, जिसके बाद उसने अपने एक पुराने दोस्त कपवांग लेटी से संपर्क किया, जिसने कॉन्ट्रैक्ट किलर की व्यवस्था की. दथांग सुयांग 27 अक्टूबर को कपवांग लोवांग और दमित्रीत खियांग होटल सु पिंसा में रुके. 28 अक्टूबर को रोनी लिशी होटल में आया, जहां इस हत्याकांड की साजिश को रचा गया. इस हत्या को हादसे का रूप देने का पूरा प्लान तैयार किया गया. इसके ​लिए रोनी ने उन्हें दो बार में 5 लाख रुपये की रकम भी दे दी.


आईजी चुखू आपा ने बताया कि कपवांग और तन्नी 30 अक्टूबर को खोंसा के लिए रवाना हो गए, जबकि दथांग वापस आ गया.  दमित्रीत खियांग को रोनी लिशी ने मीना के कार ड्राइवर के रूप में रख लिया. इसके बाद 2 नवंबर को दथंग ने मीना की हत्या करने के लिए मना कर दिया. उसने कहा कि उसे एक अन्य साथी की आवश्यकता है. इसके बाद रोनी ने कॉन्ट्रैक्ट किलर कपवांग से संपर्क किया, जिसके बाद मीना की कार पर दमित्रीत को ड्राइवर के रूप में रखा गया. आपा ने बताया कि शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि दमित्रीत खियांग ने हथौड़े से वारदात को अंजाम दिया है. 


उन्होंने बताया कि 5 नवंबर को रोनी लिशी ने गर्भवती पत्नी मीना को भूमि मुआवजे को लेकर बातचीत करने के लिए कारसिंगा जाने के लिए कहा. बताया गया है कि इस पूरी वारदात की जिस तरह पहले से ही रूप रेखा तैयार कर ली गई थी, उसी तरह पूरी वारदात को अंजाम दिया गया. इनोवा कार जब कारसिंगा रोड पर थी, तभी रास्ते में दथंग ने बांज तेनाली से दमित्री खियांग को कार में बिठाया. जैसे ही कार ने कूड़ा डंपिंग जोन को पार किया, वैसे ही दमित्री ने हथौड़े से प्रहार कर मीना की हत्या कर दी. इसके बाद दमित्री ब्लॉक बिंदु पर कार से नीचे उतर गया और दथंग ने कार को थोड़ा आगे बढ़ाया और सड़क के बाईं ओर सड़क के नीचे खाई की ओर धकेल दिया, जिससे ये हत्याकांड एक हादसा लगे. 


आईजी चुखू आपा ने बताया कि पुलिस ने आरोपी चालक के कब्जे से चार मोबाइल फोन और नकदी भी जब्त कर ली है. वहीं मीना की बहन मीतू ने कहा कि जब तक आरोपियों को मृत्यदंड नहीं मिलेगा, तब तक परिवार के सदस्यों को संतुष्ट नहीं मिलेगी. उसने बताया कि मीना का परिवार तब तक खुशहाल था, जब​ तक रोनी के जीवन में उसकी प्रेमिका चोमी की एंट्री नहीं हुई थी. रोनी की प्रेम कहानी शुरू होते ही उसका व्यवहार बदलने लगा. जबकि रोनी का मीना से भी प्रेम विवाह हुआ था. 2017 में रोनी ने तलाक की अर्जी दी थी, लेकिन तलाक के कागजात पर मीना ने हस्ताक्षर नहीं किया.






डेस्क

No comments