Breaking News

> > >

सालों से जमीं सियासत हिली, अब रतसर कलां होगी नगर पंचायत

 


रतसर (बलिया) विकास खण्ड गड़वार की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत रतसर कलां अब नगर पंचायत होगी। मंगलवार को शासन से जैसे ही इसकी सूचना मिली, कस्बा के लोग खुशी से झूम उठे। विकास खण्ड गड़वार के रतसर कलां को नगर पंचायत का दर्जा दिलाने की कवायद विगत दो दशक पूर्व से चली आ रही थी। डेढ़ दशक पूर्व जब इस ग्राम सभा को नगर पंचायत बनने की संभावना प्रबल हुई तो गंवई राजनीति के चलते इस ग्राम सभा का ही दो भाग करा दिया गया और रतसर खुर्द के नाम से एक नया ग्राम सभा अस्तित्व में आ गया फिर रतसड़ कलां के पूर्वी भाग टड़वा व शंकरपुर को भी अलग करा दिया गया और चकचमैनिया नया ग्रामसभा बना दिया गया।  प्रदेश में योगी सरकार के आते ही एक बार फिर रतसर कलां को नगर पंचायत बनाने की कोशिश रंग लाई और जैसे ही मंगलवार को शासन से अधिसूचना जारी हुई लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई। इसके लिए भाजपा के पूर्व ब्लाक प्रमुख विजय गुप्ता की बड़ी भूमिका मानी जा रही है जिन्हे इस कार्य के लिए  प्रदेश सरकार के मन्त्री उपेन्द्र तिवारी का भरपूर समर्थन मिला । शासन द्वारा रतसर कलां को नगर पंचायत बनाने के लिए इसके भौगोलिक क्षेत्र में दूसरी ग्राम सभा के रतसर खुर्द, छतवां,जिगनहरा, सुहवां, सरभारी खुर्द, टड़वां और कीरतपट्टी को मिलाते हुए नगर पंचायत बनाया गया है।


नगर पंचायत बनने से कहीं खुशी कहीं गम :

जिन गांवों को नगर पंचायत रतसर कलां में जोड़ा गया है वहां ग्राम प्रधानी की तैयारी कर रहे जितने भी प्रधान पद के संभाव्य प्रत्याशी थे और वे नेता भी जो पोस्टर वार होर्डिंग वार में लगे थे उनके चेहरे कुछ उतरे से दिख रहे है। सोमवार को शासन से अधिसूचना जारी होने की खबर जैसे ही लोंगो को मिली कहीं खुशी तो कहीं गम का भी नजारा देखने को मिला। ग्राम सभा को नगर पंचायत बनाए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए

रतसरकलां की ग्राम प्रधान स्मृति सिंह ने कहा कि इसके लिए  शासन प्रशासन से बार-बार मांग की जाती रही है। आज हमें बहुत खुशी हो रही है कि मेरे कार्यकाल के दौरान ऐतिहासिक फैसला शासन ने दिया है। 

पूर्व ब्लाक प्रमुख विजय गुप्ता ने बताया कि 1994 से ही इस ग्राम सभा को नगर पंचायत बनाने की  मांग शासन सेकी जा रही थी। प्रदेश सरकार में मन्त्री उपेन्द्र तिवारी एवं नगर विकास मन्त्री जी का क्षेत्र जनता शुक्रगुजार कि ब्लाक की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत को नगर पंचायत का दर्जा शासन से मिला है।

जिला पंचायत सदस्य अमित यादव ने बताया कि नगर पंचायत बनने से बजट भी भरपुर आएगा साथ ही साथ साफ सफाई एवं अन्य बुनियादी सुविधाएं भी उपलब्ध हो पाएगी।

डीएस ग्रुप आफ एजुकेशन के उप प्रबन्धक डा० प्रवीण सिंह ने कहा कि थाना, कुड़ा प्रबंधन एवं अन्य मूलभूत सुविधाओं का जो अभाव था अब नगर पंचायत बनने से पूरा हो सकेगा साथ ही साथ जो गांव इसमें जुड़े है उन गांवों का भी विकास हो सकेगा ।

पूर्व प्रधान नईम अख्तर ने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि गांव को नगर पंचायत बनने से अब विकास कार्यों के लिए धन की समस्या आड़े नही आयेगी। क्षेत्र का सर्वांगिण विकास होगा।


रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments