Breaking News

बलिया के शिक्षकों संग दबंगई करने वाला सहायक अध्यापक सस्पेंड

 




* सेवा पुस्तिका जीपीएफ पासबुक काे अवैध रुप से अपने पास रखने का मामला 


बलिया :  बेसिक शिक्षा बलिया के रसड़ा ब्लॉक के समस्त शिक्षकों की सेवा पुस्तिका को कथित रूप से अपने कब्जे में रखकर शासनादेश एवं विभागीय आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाने वाले शिक्षक तेजप्रताप सिंह को आखिरकार बीएसए बलिया शिव नारायण सिंह ने निलंबित कर दिया। बिना अधिकार के शासकीय दस्तावेजों जैसे सेवा पुस्तिका, जीपीएफ पासबुक, एनपीएस पासबुक, 11C रजिस्टर, शिक्षामित्रों की पत्रावलियां सहित अन्य महत्वपूर्ण विभागीय कागजातों को अपने पास दबाकर अवैध रूप से रखने एवं विभाग द्वारा बार-बार पत्राचार किए जाने के बावजूद भी उसे वापस ना करने और बेसिक शिक्षा नियमावली एवं विभागीय आदेशों की धज्जियां उड़ाने वाले शिक्षक तेजप्रताप सिंह को खंड शिक्षा अधिकारी रसड़ा बंशीधर श्रीवास्तव की रिपोर्ट पर बीएसए शिव नारायण सिंह ने निलंबित करते हुए उसे निलंबन अवधि के लिए प्राथमिक विद्यालय रसङा नंबर 3 से सम्बद्ध कर दिया है तथा जांच के लिए खंड शिक्षा अधिकारी बेलहरी नरेंद्र सोनकर को नामित किया है । श्री सोनकर 15 दिनों में जांच कर आख्या प्रस्तुत करेंगे ।


उल्लेखनीय है कि रसड़ा विकासखंड का खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय  विगत 10 वर्ष से भी अधिक समय से डायट परिसर पकवाइनार  में संचालित है । रसड़ा शिक्षा क्षेत्र के समस्त कार्य यहीं से संपादित होते हैं, परंतु रसड़ा शिक्षा के समस्त शिक्षकों की सेवा पुस्तिका, जीपीएफ पासबुक, 11C रजिस्टर, एनपीएस पासबुक, सहित अन्य कई महत्वपूर्ण कागजात भी कम्पोजिट विद्यालय रसड़ा के सहायक अध्यापक तेज प्रताप सिंह द्वारा अपने संरक्षण में अवैध रूप से रखा गया है । बेसिक शिक्षा नियमावली के अनुसार सेवा पुस्तिका जो शिक्षकों का सेवा संबंधी सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज है, यही शिक्षकों की सबसे बड़ी पूंजी होती है, नियमानुसार इसको खंड शिक्षा अधिकारी के संरक्षण में होना चाहिए । लेकिन रसड़ा शिक्षा क्षेत्र में शासन प्रशासन एवं बेसिक शिक्षा नियमावली की धज्जियां उड़ाते हुए सहायक शिक्षक तेज प्रताप सिंह ने शिक्षकों की सेवा पुस्तिका के अलावा अन्य सभी महत्वपूर्ण कागजात अपने पास अपने विद्यालय के एक भवन में रखा गया है । यदि किसी शिक्षक को कोई विभागीय कार्य पड़ता है तो वह खंड शिक्षा अधिकारी को अपनी सेवा पुस्तिका प्राप्त करने के लिए पत्र देता है और उस पर अधिकारी द्वारा तेज प्रताप सिंह को निर्देशित किया जाता है तब जाकर वह सेवा पुस्तिका उसे मिल पाती है । कुल मिलाकर आरोप है कि ऐसी स्थिति में शिक्षकों का मानसिक एवं आर्थिक शोषण भी होता है ।

 शासन प्रशासन एवं विभागीय आदेशों की रसड़ा में हो रही इस खुलेआम अवमानना एवं रसड़ा में  शिक्षकों के मानसिक एवं आर्थिक  उत्पीड़न से निजात दिलाने के लिए विगत 24 अक्टूबर को रसड़ा के शिक्षकों ने प्रदेश के लोकप्रिय बेसिक  शिक्षा मंत्री डॉ सतीश चन्द्र द्विवेदी से मिलकर संपूर्ण प्रकरण से उन्हें अवगत कराया था। जिस के क्रम में बेसिक शिक्षा मंत्री ने बीएसए बलिया को सभी शिक्षकों की सेवा पुस्तिका व अन्य पत्रावलियों को नियमानुसार बीईओ के संरक्षण में उनके कार्यालय में रखवाने के लिए तीन दिन का अवसर दिया था, साथ ही इसमें बाधा पहुंचाने पर आरोपी शिक्षक को निलंबित करते हुए उस पर एफआईआर दर्ज कराने हेतु निर्देशित किया था । क्रम में बीएसए बलिया शिव नारायण सिंह ने आदेश मिलते ही तत्काल खंड शिक्षा अधिकारी को सेवा पुस्तिका सहित समस्त पत्रावलियां मंगाकर अपने कार्यालय में संरक्षित कराने तथा न देने पर आरोपी शिक्षक को निलंबित करते हुए उस पर एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए गए थे । बीईओ रसड़ा ने बेसिक शिक्षा मंत्री एवं बीएसए महोदय के आदेश के क्रम में तेजप्रताप सिंह को पत्र प्रेषित कर 3 दिन के अंदर सेवा पुस्तिका सहित समस्त कागजात डायट पकवाइनार परिसर मे स्थित बीआरसी पर उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया गया । 3 दिन बाद तेज प्रताप सिंह द्वारा अपने अनुचरों से सेवा पुस्तिका सूचीबद्ध कर खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय को उपलब्ध कराया गया । विभागीय सूचना के अनुसार तेज प्रताप सिंह द्वारा जहां बीईओ रसङा को अभी कई दर्जन सेवा पुस्तिका उपलब्ध नहीं कराई है वहीं जीपीएफ पासबुक, एनपीएस पासबुक, 11c रजिस्टर, शिक्षामित्रों की पत्रावलियां सहित अन्य महत्वपूर्ण कागजात भी उपलब्ध नहीं कराए गए हैं । जिसके लिए खंड शिक्षा अधिकारी रसड़ा द्वारा उन्हें लिखित रूप से पत्र देकर अवशेष सेवा पुस्तिका,जीपीएफ पासबुक, एनपीएस पासबुक, 11C रजिस्टर  सहित अन्य सभी दस्तावेजों को भी तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए थे और बीच में कई बार संपर्क भी किया गया लेकिन तेज प्रताप सिंह ने विभागीय आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाते हुए आदेश के 1 माह बाद तक भी सरकारी पत्रावलियां न उपलब्ध कराकर अपनी दबंगई और शिक्षक विरोधी मानसिकता को प्रदर्शित कर दिया । अंततः खंड शिक्षा अधिकारी रसड़ा बंशीधर श्रीवास्तव ने अपनी आख्या 28 नवंबर 2020 को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बलिया को आरोपी शिक्षक के खिलाफ विभागीय कार्यवाही करने की संस्तुति के साथ प्रेषित कर दिया । बीएसए बलिया शिव नारायण सिंह ने शासन और प्रशासन के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाने वाले शिक्षक तेज प्रताप सिंह को 7 दिसंबर को निलंबित करते हुए प्राथमिक विद्यालय रसड़ा नंबर 3 से संबंध कर दिया है तथा प्रकरण की जांच के लिए बीईओ बेलहरी नरेंद्र सोनकर को नामित करते हुए 15 दिन में जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं । निलंबन आदेश के अनुसार निलंबन अवधि के दौरान तेज प्रताप सिंह को नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता देय होगा, और उन्हें निलंबन अवधि में अपनी सेवाएं प्राथमिक विद्यालय रसड़ा नंबर 3 पर देनी होंगी ।






रिपोर्ट धीरज सिंह

No comments