Breaking News

> > >

इंजीनियरों की टीम के साथ सीडीओ ने किया भ्रमण


- *जलजमाव की समस्या को दूर करने को लेकर की चर्चा


- *कालोनियों की गहराई मापी, उसी हिसाब से बनेगा प्रोजेक्ट


बलियाः बरसात के दिनों में जलनिकासी की समस्या को लेकर प्रशासनिक अमला अभी से गंभीर हो गया है। खासकर सीडीओ विपिन कुमार जैन का प्रयास है कि जितना जल्द हो सके, नाला निर्माण की प्रक्रिया को पूरा कर जलजमाव की समस्या को दूर कराया जा सके। यह काम बरसात से पहले हर हाल में करा लेने के लिए वे प्रतिबद्ध हैं।




बुधवार को आधा दर्जन इंजीनियरों की टीम के साथ सीडीओ ने एनसीसी चैराहा व उसके आसपास कालोनियों में भ्रमण किया। कुंवर सिंह चैराहा से एनसीसी तिराहा वाले रास्ते के दोनों तरफ की गहराईयों को इंजीनियरों ने परखा। इसके बाद सीडीओ ने उन सभी से अलग-अलग फीडबैक लिया। कहा कि कार्य ऐसा कराया जाए जिससे इधर की जलनिकासी आसानी से होकर कटहल नाले तक चली जाए। जिला जेल, पुलिस लाईन मैदान व पुलिस कालोनियों की गहराई को देखते हुए प्रोजेक्ट बनाने के निर्देश इंजीनियरों को दिया। 


*क्रॉस नाला बना कर निकास को किया जाएगा और बेहतर*


सीडीओ व इंजीनियरों की टीम में भ्रमण के दौरान यह बात हुई कि कुंवर सिंह से एनसीसी तिराहा तक रास्ते में उपयुक्त जगहों पर क्रास नाला बनाकर कनेक्शन कर पानी निकास को और सुगम बनाया जाएगा। सड़क के दोनों तरफ यानि, पुलिस लाइन मैदान और डायल 112 कार्यालय व आदेश कक्ष व पुलिस कालोनी की तरफ जाकर जाकर जमीन के लेवल को परखा गया। उसके हिसाब से प्रोजेक्ट बनाने को कहा। उसी में जगह-जगह चेंबर बनाकर उससे कॉलोनियों से आने वाली नालियों को कनेक्ट करने का भी सुझाव इंजीनियरों ने दिया। नाला निर्माण के समय वहां लगे ट्रांसफार्मर को लेकर भी बिजली विभाग के अधिकारियों ने बात की गयी। 


पुनरीक्षित प्राकलन बनाने के निर्देश

 


मंडी समिति से तिखमपुर व एनसीसी तिराहा वाले सड़क के पानी निकास के लिए तीन करोड़ की लागत से बन रहे नाले का पुनरीक्षित प्राकलन बनाने का निर्देश सीडीओ ने दिया। कहा कि पीडब्ल्यूडी की ओर से तीन करोड़ खर्च होगा ही, ऐसे में कुछ और धन मिलाकर इसी नाले को चैड़ा व गहरा बना दिया जाए तो आसपास की कालोनियों का पानी भी इसी से निकल जाएगा। इससे सरकारी धन की भी बचत होगी और लोगों को जलजमाव की समस्या से निजात मिलेगी। एनसीसी तिराहा से मिड्ढी चैराहा और वहां से टीडी कालेज होकर पानी निकालने पर भी चर्चा हुई।



*गेस्ट हाउस निर्माण के लिए सही स्थल का किया चयन*


- *मनमाने ढ़ंग से कार्य कराने पर लोनिवि अभियंताओं को लगाई फटकार*


- *कहा, पुरानी व ऐतिहासिक बिल्डिंग के लुक पर नहीं पड़े कोई प्रभाव*


बलियाः सीडीओ विपिन कुमार जैन ने बुधवार को लोक निर्माण विभाग के भंडार गृह व डाकबंगला परिसर में हो रहे गेस्टहाउस निर्माण कार्य का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने कार्यालय परिसर में भरे कबाड़ पर लोनिवि के अभियंताओं पर नाराजगी जताई और उसे शीघ्र हटवाकर कहीं एक जगह करवाने व बाहरी परिसर को स्वच्छ बनाए रखने के निर्देश दिए। 

डाकबंगले में मनमाने जगह पर गेस्टहाउस बनवाने को लेकर सीडीओ ने सवाल किया। कहा, डाकबंगले की जो पुरानी व ऐतिहासिक बिल्डिंग है वह आज भी मजबूत है। उसके लुक पर कोई प्रभाव नहीं मिले, इसको देखते हुए सही जगह चिंहित कर कार्य कराना चाहिए। सहायक अभियंता ने आवश्यकतानुसार जगह की कमी बताई। इस पर सीडीओ ने तत्काल फीता मंगवाकर नापजोख शुरू करवा दिए। इसके बाद उन्होंने फाइनल स्थल भी चिंहित कर साथ में मौजूद अन्य इंजीनियरों से सुझाव मांगा। दरअसल, जहां निर्माण कार्य शुरू था उसके बन जाने से ऐतिहासिक बिल्डिंग का लुक प्रभावित होगा। साथ ही आसपास काफी जमीन भी बिना प्रयोग होने लायक बच जाती। ऐसे में सभी अभियंताओं ने भी सीडीओ द्वारा चयनित स्थल को ही सही ठहराया।

वहीं, भंडार गृह के निरीक्षण के दौरान जर्जर हालत में काफी संख्या में बोर्ड पड़े होने पर कहा कि इन पर सभी विभागों का नाम लिखवाकर वहां लगवा दिया जाए। वहीं मेन गेट के पास सड़क किनारे लोहे के काफी कबाड़ होने पर भी नाराजगी जताई।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments