Breaking News

> > >

जिले में उत्तम स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए सुभाषचंद बोस जयंती पर करेंगे पदयात्रा : पूर्व विधायक राम इकबाल सिंह

 


बेल्थरारोड, बलिया। जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था सड़ गई है। जिला स्तर पर न्यूरो सर्जन और कार्डियोलॉजी का डॉक्टर नहीं है। सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भी बीमार है।आंख, कान, गला के चिकित्सक जिले में नहीं है। हड्डी के स्पेशलिस्ट डॉक्टरों का सीएचसी पर तैनाती नहीं है।जिले की स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने की लड़ाई मै तीन चार साल से लड़ रहा हू।जिले के नागरिकों के लिए स्वास्थ्य सुविधा को उत्तम बनाने के लिए लोकतांत्रिक ढंग से जो करना होगा, करेंगे।सुभाष चन्द बोस जयंती पर 23 जनवरी को स्वास्थ्य सुविधा दुरुस्ती हेतु दस किमी की पदयात्रा शुरू करेंगे।

      उक्त बातें भाजपा के पूर्व विधायक राम इकबाल सिंह रविवार को सायंकाल नगरा में प्रेसवार्ता के दौरान कहे।कहे कि सीएचसी दुबहड़ पर तीन चिकित्सक है। जिसमें कोई पोस्ट ग्रेजुएट नहीं है। जबकि सीएचसी पर पोस्ट ग्रेजुएट चिकित्सक की तैनाती होना अनिवार्य है। हड्डी, न्यूरो, जनरल सर्जरी, मेडिसिन, आंख से लेकर हर चीज का कम से एक पोस्ट ग्रेजुएट डॉक्टर होना चाहिए। कहे कि दो वर्ष पहले मै एक बार स्वास्थ्य मंत्री से इस बाबत मिला था तो कहे कि एक महीने में ठीक हो जाएगा लेकिन स्थिति और खराब हो गई।सरकार अस्पतालों को दवा दे रही है, सुविधा दे रही है लेकिन डॉक्टर पर्ची बाहर भेज दे रहे है। आम जनता को अस्पतालों से न दवा मिलती है, न जांच की सुविधा मिलती है और न इंजेक्शन मिलता है। सब बाहर के लिए लिख दिया जाता है। कहे कि जिले में बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए पदयात्रा करेंगे। यात्रा के बाद  पत्रक जिलाधिकारी को दिया जाएगा जिसमें लक्ष्मी राजभर बलात्कार काण्ड, क्रय केंद्रों पर किसानों का धान खरीद न होने का जिक्र होगा। कहे कि लक्ष्मी राजभर बलात्कार काण्ड में पता नहीं पुलिस किस दबाव में आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं कर रही है, जबकि उसने ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के सामने 164 का बयान भी दिया है। किसान 900 से 1300 के भाव में अपना धान बिचौलियों को बेचने पर मजबुर है। जिले के अधिकारी सरकार को गलत रिपोर्ट देकर सरकार की आंख में धूल झोंक रहे है। कहे कि 23 जनवरी को पहली पदयात्रा होगी, इसके अलावा दो पदयात्रा और होगी। जिसकी तिथि बाद में घोषित की जाएगी।

                            


संतोष द्विवेदी

No comments