Breaking News

कोविड-19 का टीका : चार फरवरी को 14 व पाँच फरवरी को नौ केन्द्रों पर होगा टीकाकरण



दो दिनों में 3292 लाभार्थियों को लगेगा टीका 

बलिया : जिले में कोविड-19 टीकाकरण का महा अभियान चलाया जा रहा है जिसमें चरणबद्ध तरीके से लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ ए के मिश्रा ने विभाग के पंजीकृत समस्त स्वास्थ्य अधिकारियों और कर्मचारियों से अपील की है कि वह टीकाकरण केंद्र पर समय से पहुंचें और जिले में टीकाकरण अभियान को शत प्रतिशत सफल बनाएँ। उन्होंने बताया कि 4 फरवरी को जिले में 14 स्वास्थ्य केंद्रों पर 15 सत्र आयोजित किए जाएंगे । इस दौरान जनपद के 1542 लोग प्रतिरक्षित किए जाएंगे । वहीं 5 फरवरी को नौ स्वास्थ्य केंद्रों पर 15 सत्र आयोजित कर स्वास्थ्यकर्मियों के साथ ही फ्रंट लाइन वर्कर को भी प्रतिरक्षित किया जाएगा । इस दौरान जनपद के 1750 लोग प्रतिरक्षित किए जाएंगे।

डॉ मिश्रा ने कहा कि कोविन पोर्टल पर पंजीकृत सभी लोग टीकाकरण केंद्र पर समय से पहुंचे। शीशी खुलने के बाद एक नियत समय तक ही उसको उपयोग में ला सकते हैं। उन्होने स्पष्ट कि कोविड–19 का यह टीका सबसे सुरक्षित टीका है। यह शरीर पर किसी तरह का गंभीर प्रभाव नहीं छोड़ता है। उन्होने बताया कि कोरोना का टीका लगने के बाद यदि तबीयत ठीक न लगना, थकान महसूस होना, कंपकंपी या बुखार सा महसूस होना, सिर दर्द, मितली, जोड़ो या मांसपेशियों में दर्द की समस्या आ रही है तो इसका मतलब यह टीका शरीर पर असर कर रहा है। उन्होने बताया कि जिले में 16, 22, 28, 29 जनवरी को हुये कोविड-19 टीकाकरण में लक्षित 7657 लाभार्थियों के सापेक्ष 4541 को प्रतिरक्षित किया जा चुका है |

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि उन्हें 28 जनवरी को कोविड का टीका लगा था। कोई परेशानी नहीं हुई । वह लगातार कार्यालय जा रहे हैं और अपनी ड्यूटी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोविड का टीका पूरी तरह से सुरक्षित है, सरकार द्वारा दी जा रही सुविधा का सभी लोग लाभ उठाएं और टीकाकरण अवश्य कराएं।

जिला महिला चिकित्सालय के सीएमएस डॉo सुमिता सिन्हा ने बताया कि उन्होने 16 जनवरी को कोविड का टीका लगवाया था। इसके बाद पूरे दिन काम भी किया। वह पूरी तरह से स्वस्थ हैं। उन्होने कहा कि सभी लोग क्रमवार कोविड-19 का टीकाकरण अवश्य कराएं। 

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी/ कोरोना के नोडल अधिकारी डॉ० हरिनंदन प्रसाद बताया कि उन्होने  22 जनवरी को कोविड-19 का टीका लगवाया था। उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई। इसके बाद वह लगातार अपना काम कर रहे हैं । प्रतिदिन अस्पताल जाते हैं, सब कुछ पहले के जैसा है। वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। टीकाकरण अवश्य कराएं। 

टीका लगवाने से पहले दें पूरी जानकारी-

टीका लगवाने से पूर्व यदि एलर्जी, बुखार, रक्त बहने या रक्त पतला करने की कोई दवा ले रहे हैं, या प्रतिरक्षण क्षमता कम है तो संबंधित स्वास्थ्य अधिकारी को जानकारी दें। गर्भवती या स्तनपान करा रही महिलाओं को भी टीका लेने से पहले स्वास्थ्य अधिकारी  को पूरी जानकार देनी चाहिए। सीरम इंस्टीट्यूट की फैक्टशीट के अनुसार कोविशील्ड टीका 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए है। यह टीका उन लोगों को नहीं लगना है जिन्हें पहली खुराक के बाद गंभीर रूप से एलर्जी हुई हो। इसके लिए चिकित्सक से परामर्श लें। कोविशील्ड से जुड़े प्रतिकूल प्रभाओं को लेकर सामान्य तौर पर  थकान महसूस होना, कंपकंपी या बुखार सा महसूस होना, सिर दर्द,  की शिकायत आम हो सकती है। वैक्सीन लगने के बाद कुछ घंटों में यदि कोई साइड इफेक्ट दिखता है तो इस बारे में वैक्सीन लगाने वाले को तत्काल जानकारी दें। या जिला कोविड-19 कंट्रोल एंड कमांड सेंटर पर बने हेल्प-लाइन नंबर 05498-220827, प्रदेश हेल्प लाइन नंबर 104 पर सम्पर्क करें।




रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments