Breaking News

Akhand Bharat

विधायक जी विधायक के साथ-साथ एक शिक्षक भी हैं और शिक्षक के लिये समाज को दिग्भ्रमित करने वाली बात करना शोभा नही देता : डॉ. घनश्याम चौबे


रिपोर्ट धीरज सिंह

बलिया : बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह का शिक्षकों के प्रति दिया गया बयान गैर जिम्मेदराना बयान है जिसकी विशिष्ट बी.टी.सी.शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन कटु शब्दों में निंदा करता है।

 विशिष्ट बी.टी.सी.शिक्षक वेलफेयर एसोसियेशन के जनपदीय अध्यक्ष डॉ. घनश्याम चौबे ने कहा कि माननीय विधायक जी विधायक के साथ-साथ एक शिक्षक भी हैं और शिक्षक के लिये समाज को दिग्भ्रमित करने वाली बात करना शोभा नही देता।

आज जहाँ प्रदेश सरकार द्वारा सरकारी विद्यालयों के कायाकल्प व शैक्षणिक गुणवत्ता का उन्नमुक्त स्वर से श्रेय लिया जा रहा है वहीं उन्हीं के सम्मानित विधायक जी द्वारा इस तरह का बयान हस्यास्पद है।

डॉ. चौबे ने सरकारी विद्यालयों में कार्यरत अध्यापकों को कर्मठ और संघर्षशील बताते हुये कहा कि सरकारी अध्यापकों को शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक दोहरी जिम्मेदारी निभानी पड़ती है। उन्हों ने कोरोना काल की याद दिलाते हुये कहा कि जब - जब राष्ट्र में कोई आपदा आती है शिक्षक समुदाय अगले पायदान पर खड़ा होकर राष्ट्र की सेवा करता है। सही मायने में सरकारी विद्यालयों के शिक्षक ही राष्ट्र निर्माता होता है जो समय -समय पर राष्ट्र को नई दिशा और दशा दिया है वहीं निजी क्षेत्र का एक मात्र उद्देश्य धनार्जन होता है।

सरकारी विद्यालयों में ही राष्ट्रीय,नैतिक व सामाजिक मूल्यों के साथ -साथ अन्तर्निहित सर्वोत्तम शक्तियों का चतुर्दिक वाह्य प्रकाशन होता है जब कि प्राइवेट विद्यालयों के मूल में केवल और केवल व्यवसाय होता है।

No comments