Breaking News

Akhand Bharat

नागा जी सरस्वती विद्या मन्दिर की शाखा निबाहना बाबा नागा जी सरस्वती विद्या मन्दिर का उद्घाटन



बेल्थरारोड, बलिया। नगरा क्षेत्र के खारी गांव में नागा जी सरस्वती विद्या मन्दिर बलिया की शाखा निबाहना बाबा नागा जी सरस्वती विद्या मन्दिर का शुभारम्भ शुक्रवार को सायंकाल एक सादे समारोह में सम्पन्न हुआ। उद्घाटन मुख्य अतिथि शिशु शिक्षा समिति गोरक्ष प्रांत के अध्यक्ष नागर दास मिश्र व विद्या भारती के पूर्वी यूपी के संगठन मंत्री हेमचन्द ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मां सरस्वती के छायाचित्र पर पुष्पार्चन व दीप प्रज्ज्वलित कर किया। 

           उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि ने कहा कि राष्ट्र व समाज को सशक्त बनाने के लिए व्यक्ति का शिक्षित होना अति आवश्यक है। इसके लिए विद्या भारती द्वारा पूरे देश में विद्यालय संचालित किए जा रहे है जिसमें योग्य शिक्षकों द्वारा छात्रों को संस्कार युक्त शिक्षा दी जा रही है। कहे कि जब तक संस्कार नहीं होगा, शिक्षित होने का कोई अर्थ नहीं है। कहे कि हमलोगो का प्रयास है कि जिस विचारधारा को लेकर शिक्षा क्षेत्र में आए है, वो निरन्तर आगे बढ़े। क्षेत्रीय संगठन मंत्री ने कहा कि भारत की दशा और दिशा बदलने के लिए शिक्षा के साथ साथ संस्कार का होना बहुत जरूरी है। जिस विद्यार्थी के अंदर शिक्षा के साथ संस्कार नहीं होगा वो आगे जाकर सफल तो हो सकता है लेकिन उसका जीवन सार्थक नहीं हो सकता है। संस्कार युक्त शिक्षा से ही राष्ट्र को परम वैभव तक पहुंचाया जा सकता है। कहे कि हर व्यक्ति के अंदर देशभक्ति का भाव जागृत कर समाज और राष्ट्र की व्यवस्था बदलने के लिए प्रतिबद्ध है। समाजसेवा शिक्षा का मुख्य उद्देश्य होना चाहिए। इसी ध्येय को लेकर हम आगे बढ़ रहे है। उन्होंने कहा कि जहां सर्वे भवन्तु सुखिनः का भाव नहीं है वहां हिंदुत्व और भारतीयता नहीं है। कहे कि यहां पर खुल रहे विद्यालय के माध्यम से अनुशासन, देशभक्ति और त्याग जैसे मूल्यों को छात्रों के अंदर भर कर उन्हें एक योग्य नागरिक बनाया जाए, यही मेरी शुभकामना है। शिवानंद पांडेय, निर्भय जी, रमेश राय, योगेश कुमार, रामनाथ, डॉ कालिंदी पांडेय, अक्षय कुमार ठाकुर, कमलेश कुमार सिंह, पूर्व प्रधानाचार्य मुन्नालाल श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे। अध्यक्षता जगदीश सिंह व संचालन प्रधानाचार्य अरविंद सिंह चौहान ने किया।

                                     


संतोष द्विवेदी

No comments