Breaking News

स्कूल खुलने से बच्चों के चेहरे पर दिखी खुशी, कोरोना गाइड लाइन का कराया जा रहा पालन

 



रतसर (बलिया) शासन के निर्देशानुसार बुधवार को प्राथमिक स्तर के सभी विद्यालय खुले तो विद्यालयों में लंबे समय बाद रौनक दिखा। बच्चे मास्क लगाकर अपने- अपने विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने के लिए पहुंचे। दर्जनों विद्यालय के शिक्षक को तो बच्चों को बुलाने के लिए उनके घर भेजना पड़ा। फिर भी छात्रों की उपस्थिति 20 प्रतिशत से ज्यादा नही हो सकी। लेकिन जो भी बच्चे विद्यालय आये वे सभी बहुत खुश दिखे। क्षेत्र के कम्पोजिट विद्यालय जनऊपुर में सभी कक्षाओं को मिलाकर दर्जन भर बच्चे आज स्कूल आये थे।  वहीं कंपोजिट विद्यालय नूरपुर में 96 बच्चे उपस्थित रहे। प्रधानाध्यापक सत्यनारायन प्रसाद ने बताया कि अभिभावकों से संपर्क कर बच्चों को स्कूल भेजने के लिए आग्रह किया जा रहा है जल्द ही सारी कक्षाएं सुचारू हो जायेंगी। इधर लम्बे समय से स्कूल बन्द था। अब बच्चे स्कूल पढ़ने आ रहे है। हम सबसे पहले संक्रमण से बचाव के लिए बच्चों को विद्यालय के अन्दर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवा रहे है। बच्चों को दूरी पर बैठाया जा रहा है ताकि कक्षा के अन्दर संक्रमण न फैले। विद्यालय को खोलने से पहले पूरी तरह से सेनेटाइज करवाया गया है। पठन पाठन के पूर्व कोरोना प्रोटोकाल का पूरा ख्याल रखा गया | स्कूल आये बच्चों का थर्मल स्केनिंग के साथ ही हाथों को सेनेटाइज कराया गया। वहीं कक्षा पांच की छात्रा निकिता ने बताया कि जबसे स्कूल बन्द था। हम अपने दोस्तों से मिल नही पा रहे थे और घर भी पढ़ाई ना के बराबर हो रही थी। लेकिन अब स्कूल खुल गया है। हम हर दिन स्कूल आएगें।कक्षाओं में सभी बच्चे मास्क लगाकर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बैठे दिखे।


रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments