Breaking News

Akhand Bharat

प्रशासकीय कार्यकाल में हुई व्यापक वित्तीय अनिमियतता , शिकायत के बाद भी नही हो रही है कार्यवाही




रेवती (बलिया ):स्थानीय ब्लाक के कई गांवो में प्रशासकीय कार्यकाल के दौरान  बगैर कार्य पूर्ण किए संबंधित ग्राम विकास अधिकारियों द्वारा  लाखो रुपए की व्यापक अनियमितता का मामला प्रकाश में आने के बाद भी, शिकायत के बावजूद आला अधिकारी अभी तक प्रभावी कार्यवाही नही कर पाये है ।

बताया जाता है कि गैर जनपद गए एक विकास अधिकारी ने विशुनपुरा में तैनाती के दौरान पंंचायत भवन और सुलभ शौचालय का काम पूर्ण किए बिना लाखो रुपए निकाल चुके है। इसी क्रम में गायघाट तथा कंचनपुर में भी वित्तिय अनियमितता का आरोप है।खानपुर में तो 1लाख 5 हजार रुपए डस्टबिन के नाम पर निकाल लिए । नये प्रधान के संज्ञान में मामला आने पर लगभग  60 हजार रुपया वापस कर खुद विडियो ने अनियमितता की पुष्टि की । इसी तरह चौबे छपरा में चबूतरा के नाम पर दो लाख रूपया निर्गत हो चुका है जबकि चबूतरा कही बना ही नही है । 

----------------

स्थानीय विकास खण्ड में प्रधानो का कार्यकाल खत्म होने के बाद जैसे ही प्रशासकीय काल शुरु हुआ। उस दौरान विभिन्न ग्राम पंचायत में व्यापक पैमाने पर धन आहरित कर लिया गया।

बताया जाता है कि ब्लाक के 51 ग्रामपंचायतो को दो भागो में बाट कर एक भाग का प्रशासक तत्कालिन वीडियो ओम प्रकाश गुप्ता था दूसरे भाग का एडीओ पंचायत विनोद पाण्डेय प्रशासक बने थे। सूत्र बताते है कि वीडियो वाले गांवो में काफी कम अनियमितता हुई लेकिन एडीओ पंचायत वाले गांवो में व्यापक पैमाने पर धांधली किया गया। वीडीयों द्वारा हुई अनिमियतता में अधिकारियों की संलिप्ता के वगैरह यह संभव नही लगता । 

--------------------- 

रेवती ब्लाक में नए पंचायत के गठन के बाद तेज तरार प्रधानो ने वित्तिय अनियमितता को संज्ञान लेना शुरु किया तो वीडियो एक वीडीयो ने अपना स्थानान्तरण गैर जनपद करा लिया। कुछ ने ब्लाक ही बदलवा ली। शेष दूसरे गांव के वीडियो बन कर नए ढ़ंग से काम शुरु किया। खानपुर की प्रधान भारती पाठक ने आला अधिकारियो को शिकायती पत्र देकर अपने ग्राम सभा में साढ़े चार लाख के वित्तिय गबन की शिकायत किया है। जिसमें एक लाख पांच हजार सरकार के महत्वाकांक्षी योजना स्वच्छता के तहत कुड़ा पात्र लगाने का है। इसी तरह विसुनपुरा ग्राम सभा के प्रधान अर्जुन चौहान तथा चौबे छपरा की प्रधान सुनैना तिवारी ने भी प्रशासकीय काल में हुए अनिमियतता की अलग अलग शिकायती पत्र देकर जांच की मांग आला अधिकारियों से की है ।

इस संबंध में ए डी ओ पंचायत ने बताया की आवास व शौचालयों से संबंधित अनिमियतता की जांच की जा रही है ।


पुनीत केशरी

No comments