Breaking News

Akhand Bharat

सेनानी के साथ क्षेत्र के मालवीय थे संत स्व. विश्वनाथ दास


  

रेवती (बलिया ): पी डी इन्टर कालेज गायघाट तथा संत विश्वनाथा दास बालिका उ.मा. विद्यालय पचरूखा में विश्वनाथ दास की 102वीं जयंती पर अलग अलग आयोजित समारोहों में उनके कृतित्व व व्यक्तित्व की चर्चा करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई । पी डी इन्टर कालेज में आयोजित समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए प्रबंधक व कांग्रेस के नेता पुनीत पाठक ने कहा कि संत जी सेनानी के साथ क्षेत्र के मालवीय थे। उनके द्वारा स्थापित दो दो विद्यालय आज शिक्षा के मंदिर स्वरूप मौजूद है । अविवाहित रहते हुए भी वह समाज को अपना परिवार मानते हुए गरीबों व दलितों की सेवा के लिए आजीवन समर्पित रहे । कुछ आततायियों से उनकी गरीबों की सेवा देखी नही गई तथा 2 अगस्त सन 1982 को उनकी हत्या कर दी गई । संत जी मर कर भी आज अमर है । समारोह को प्रधानाचार्या के डी मिश्र,  उमाशंकर सिंह, पदुमदेव पाठक, पूर्व प्रधान गुड्डू सिंह, विरेश तिवारी, रंजीत ओझा, भरत प्रसाद , सुरेन्द्र सिंह ,मनोज पाठक आदि ने संबोधित किया । अध्यक्षता पूर्व प्रधानाचार्य डाॅ. शत्रुघ्न पांडेय तथा संचालन मेजर धनंजय सिंह ने किया । 

संत विश्वनाथ बालिका विद्यालय पचरूखा में आयोजित दूसरे समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए सपा नेता रंजीत चौधरी ने कहा कि स्व. संत जी ने विद्यालय की स्थापना के साथ बहुतों को नौकरी व रोजगार दिया। वह सच्चे अर्थों में गरीबों व दलितों के मसीहा रहे। उनके कृतित्व से प्रेरणा ले कर उनके बताये मार्ग पर चलना ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी । इस अवसर पर अमित पांडेय पप्पू ,  अवधेश पांडेय, अशोक चतुर्वेदी, प्रमोद उपाध्याय आदि ने समारोह को संबोधित किया । अध्यक्षता प्रधानाचार्य अभिलाषा प्रिया व संचालन बिहारी पांडेय ने किया ।


रिपोर्ट -पुनीत केशरी

No comments