Breaking News

Akhand Bharat

परिषदीय स्कूलों में नही बिजली कनेक्शन,गर्मी से बच्चे पसीना-पसीना

 






रतसर (बलिया):जनपद में कई ऐसे परिषदीय प्राथमिक विद्यालय है जहां आज तक बिजली नही पहुंच सकी। शिक्षा क्षेत्र गड़वार के न्याय पंचायत जनऊपुर स्थित  कम्पोजिट विद्यालय है जहां आजादी के 75 साल बाद भी बिजली नहीं पहुंच सकी । हालांकि चुनाव के वक्त आनन-फानन में केबल जोड़कर बिजली से संतृप्त कर दिया जाता है और जैसे ही चुनाव समाप्त होता है तुरन्त केबल उतारकर बिजली विभाग लेकर चला जाता है। सरकार ने कायाकल्प योजना के तहत 19 पैरामीटर पर विद्यालयों को संतृप्त करने की व्यवस्था की है। उसमें से प्रमुख विन्दु पर बिजली व्यवस्था को रखा है । लेकिन दुर्भाग्य से यह विद्यालय आज बिजली के लिए तरस रहा है। हालांकि इसके लिए ग्रामीणों ने बिजली विभाग से लिखित शिकायत भी किया लेकिन इसका असर न तो बिजली विभाग पर पड़ा और न ही शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने ही संज्ञान लिया। विद्यालय में वायरिंग,पंखा एवं समर सिबल लगा है लेकिन बिना बिजली के शो पीस बना हुआ है। प्रधानाध्यापक सत्य नारायण राम ने बताया कि बिजली के लिए बार-बार लिखित एवं मौखिक शिकायत के बावजूद आज तक कनेक्शन नही हो पाया। शनिवार को ग्रामीणों ने इसकी लिखित शिकायत विद्युत वितरण खण्ड द्वितीय के अधिशासी अभियन्ता उमेश कुमार से की तो आनन-फानन में तत्काल स्टीमेट बनाने के लिए विभाग को निर्देशित कर दिया। ग्रामीणों ने बताया कि दो माह पूर्व भी शिकायती पत्र लेकर ग्रामीण अधिशासी अभियन्ता से मिले थे तो उस समय भी उन्होंने एसडीओ एवं जेई को सर्वे कराकर कनेक्शन कराने की बात कही। गांव के बब्बन पाण्डेय,शिव प्रसाद,सुरेन्द्र नाथ,श्याम नारायन गुप्ता आदि ने बताया कि विभाग द्वारा इस पर कोई सार्थक पहल न होने से गर्मी में बच्चे भी स्कूल जाने से कतराते है। बिजली विभाग और शिक्षा विभाग के बीच मजधार में फंसा यह विद्यालय सरकार के कायाकल्प योजना के तहत कब तक संतृप्त होगा कोई बताने वाला नही है।

रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments