Breaking News

Akhand Bharat

तहसीलदार ने बुजुर्ग अधिवक्ता को फर्श पर पटका, अधिवक्ताओं ने जमकर...




बैरिया(बलिया)।बैरिया तहसील में उस समय हंगामा हो गया जब तहसीलदार शैलेश चौधरी ने एक बुजुर्ग अधिवक्ता के गर्दन में हाथ लगाकर तहसील सभागार में ही फर्श पर पटक दिया जब वह एक समस्या के समाधान के लिए अधिकारियों के साथ शनिवार को सम्पूर्ण समाधान दिवस में बैठे तहसीलदार के पास गए थे।इसकी जानकारी जैसे ही तहसील के अन्य अधिवक्ताओं को हुई तो अधिवजताओं ने हंगामा करते हुए तहसील के सभी कार्यालयों व न्यालयों से कर्मचारियों को निकालकर ताला बन्दी करा दिया।वहीं एसडीएम व अन्य अधिकारियों के साथ बैठे तहसीलदार के सामने पहुचकर विरोध जताते हुए उनपर लपके किन्तु समाधान दिवस में मौजूद एसएचओ बैरिया धर्मवीर सिंह,रेवती एसएचओ रमायण सिंह,थानाध्यक्ष दोकटी रोहन राकेश सिंह अपने सहयोगियों के साथ अधिवक्ताओं को किसी तरह रोका और आग्रह करके अधिवक्ताओं को शांत करना चाहा किन्तु अधिवक्ता उग्र व आक्रोशित थे।फिर एसडीएम आत्रेय मिश्र ने हाथ जोड़कर तहसीलदार की गलती स्वीकार करते हुए कार्रवाई के लिए रिपोर्ट भेजने का भरोसा दिया।



उल्लेखनीय है कि वरिष्ठ अधिवक्ता प्रेमचन्द श्रीवास्तव (80 वर्ष) किसी समस्या के समाधान के लिए सम्पूर्ण समाधान दिवस में अधिकारियों के साथ बैठे तहसीलदार से आग्रह करने गए थे कि तहसीलदार शैलेश चौधरी नराज हो गए और अधिवक्ता का गर्दन पकड़कर फर्श पर पटक दिए।यह देख समाधान दिवस में जुटी जनता व अधिकारी अवाक हो गए।पुलिस वालों ने अधिवक्ता को सहारा देकर उठाया इसकी सूचना अधिवक्ताओं तक पहुची जिसके बाद हंगामा की स्थिति उतपन्न हो गयी।सैकड़ों अधिवक्ता जुटकर तहसीलदार के खिलाफ जोड़दार नारेबाजी करते हुए एसडीएम से तहसीलदार को बाहर निकालने की मांग करने लगे।तब पुलिस वालों ने एसडीएम के साथ मिलकर मामला सम्भाला।सैकड़ो की संख्या में अधिवक्ता तहसील बन्द कराने के बाद तहसील के मुख्य द्वार पर बैठकर नारेबाजी करते हुए तहसीलदार के बाहर निकलने का इंतेजार करने लगे।तीनों थानाध्यक्षों के साथ एसडीएम अधिवक्ताओं को समझाकर मामला शान्त कराना चाहा किन्तु अधिवक्ता मौके ओर डीएम व एसपी को बुलाने की मांग करने लगे।एसडीएम की सूचना पर अपर जिला अधिकारी वित्त व राजस्व राजेश कुमार सिंह,अपर पुलिस अधीक्षक दुर्गाप्रसाद तिवारी व बांसडीह सीओ राजेश तिवारी मौके पर पहुचे।अधिवक्ता अपर जिलाधिकारी से तहसीलदार को तत्काल निलंबित करने,उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने,उनकी विभागीय जांच कराने की मांग की।जिसके बाद अपर जिलाधिकारी ने लिखित रूप से इन सभी मांगों को देने को कहा अधिवक्ताओं ने उक्त मांगों के साथ तहसीलदार पर एफआईआर दर्ज कराने के लिए अपर पुलिस अधीक्षक को तहरीर दिया।अपर जिलाधिकारी व अपर पुलिस अधीक्षक द्वारा शख्त कार्रवाई के आश्वासन के बाद अधिवक्ता शांत हुए।वहीं तहसीलदार को पुलिस सुरक्षा में बलिया भेज दिया गया।इस अवसर पर वरिष्ठ अधिवक्ता शिवजी सिंह,वसन्त पाण्डेय, रामनरायण सिंह,रुद्रदेव कुँवर,अरुण श्रीवास्तव,देवेन्द्र मिश्र, अजय सिंह,धनन्जय सिंह,शत्रुघ्न सिंह,रामप्रकाश सिंह,चन्द्रशेखर यादव,अजित सिंह,राकेश मिश्र सहित सैकड़ों अधिवक्ता मौजूद थे।उक्त अधिवक्ताओं ने तहसीलदार पर कई गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा है कि तहसीलदार की आदत बन गयी है किसी न किसी से रोज ही बदसलूकी करते है और कहते है अनुसूचित जाति का हु मुकदमे में फंसा दूंगा।जिससे पूरा तहसील त्रस्त है।समान वर्ग के लोगों का आरक्षण प्रमाण पत्र नही बनाने,और छोटे-छोटे मामले में भी भ्रस्टाचार का आरोप लगाया।

 

किसी को कानून हाथ मे लेने का अधिकार नही है इस प्रकरण पर जिलाधिकारी से परामर्श कर शख्त से शख्त कार्रवाई की जाएगी।

                   राजेश कुमार सिंह अपर जिलाधिकारी वित्त व राजस्व



रिपोर्ट : बी चौबे

No comments