Breaking News

Akhand Bharat

फाइलेरिया के मरीज़ों को एमएमडीपी किट वितरित


 

रिपोर्ट : धीरज सिंह


●सीफार संस्था की मदद से बने फाइलेरिया नेटवर्क मरीजों को किट वितरित 

●न्यू प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पूर में प्रशिक्षण व एमएमडीपी किट वितरण आयोजन संपन्न


बलिया : जनपद में सोमवार को सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफार) संस्था की मदद से 70 फाइलेरिया मरीजों को किट वितरित हुई। इसमें 47 पेशेंट सपोर्ट ग्रुप नेटवर्क के सदस्य थे और 23 नॉन पेशेंट ग्रुप के सदस्य थे। यह कार्यक्रम न्यू प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पूर में आयोजित हुआ। इस मौके पर फाइलेरिया मरीजों को प्रशिक्षण भी दिया गया। न्यू प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पूर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान विषय के जानकारों ने अपने वक्तव्य भी दिए।

फाइलेरिया के रोगियों के एक दिवसीय प्रशिक्षण एवं एमएमडीपी किट वितरण कार्यक्रम में जिला मलेरिया अधिकारी सुनील कुमार यादव ने कहा कि फाइलेरिया वेक्टर जनित रोग है। यह मादा क्यूलेक्स मच्छर के काटने से होता है। इसे लिम्फोडिमा (हाथी पांव) भी कहा जाता है। यह न सिर्फ व्यक्ति को दिव्यांग बना देती है बल्कि इससे मरीज की मानसिक स्थिति पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। शुरू में डॉक्टर की सलाह पर दवा का सेवन किया जाए तो इसका परजीवी नष्ट हो सकता है। सभी लोग मच्छरदानी का प्रयोग करें इसके साथ ही घर के आस- पास व अंदर साफ-सफाई रखें, पानी जमा न होने दें और समय-समय पर रुके हुए पानी में कीटनाशक, जला हुआ मोबिल, मिट्टी का तेल डीजल का छिड़काव करते रहें। 

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि जनपद में अब तक 1026 एमएमडीपी किट का वितरण फाइलेरिया के मरीजों में हो चुका है। उन्होंने फाइलेरिया रोग रुग्णता प्रबंधन का अभ्यास कराया और बताया कि फाइलेरिया रोग से बचने के लिए दो वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को दवा का सेवन करने की आवश्यकता है। दवा के सेवन से फाइलेरिया रोग से बचा जा सकता है। फाइलेरिया की दवा जनपद के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर उपलब्ध है।

वीबीडीसी रागिनी तिवारी ने बताया कि फाइलेरिया के मरीजों के प्रभावित अंग को अच्छी तरह से साफ-सफाई कर रखना चाहिए

ब्लॉक सामुदायिक प्रक्रिया प्रबंधक धर्मेंद्र यादव ने बताया कि  सोमवार को 70 रोगियों को फाइलेरिया रोग से बचाव के लिए एमएमडीपी किट का वितरण किया गया। इस किट में हाथ धोने का साबुन, टब, बाल्टी, मग, तौलिया, ग्लब्स, फाइलेरिया की दवा आदि शामिल है।

इस अवसर पर न्यू प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पूर के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी, सीफार संस्था के एलएफ टीम के जिला कार्यक्रम समन्वयक आशीष कुमार पाण्डेय, गुलाब चन्द्र यादव, पाथ संस्था से वेद प्रकाश एवं  ब्लॉक कॉर्डिनेटर एसएन चौबे आदि उपस्थित रहे।

No comments