Breaking News

Akhand Bharat

ऑनलाइन आवेदन त्रुटियों के लिए पोर्टल खोल दिया गया है: जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी


 


बलिया। जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण ऑनलाइन आवेदन त्रुटियों के लिए पोर्टल खोल दिया गया है: जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी राजीव कुमार यादव ने बताया है कि  शैक्षिक सत्र 2022-23 में दशमोत्तर छात्रवृत्ति / शुल्क प्रतिपूर्ति योजनान्तर्गत आनलाइन प्रक्रियात्मक कार्यवाही हेतु संस्थाओं/छात्र-छात्राओं हेतु समय-सारिणी जारी किया गया है। जिसके द्वारा कक्षा 11-12 एवं अन्य दशमोत्तर कक्षाओं के Fresh एवं Renewal के छात्रों का आनलाइन छात्रवृत्ति आवेदन पत्र को सशोधन किये जाने हेतु दिनांक 18 जनवरी, 2022 दिनांक 27 जनवरी, 2022 तक छात्र द्वारा आनलाइन अवेदन में की गयी त्रृटियों (suspected) को सुधार हेतु पोर्टल खोल दिया गया है। 

जिन छात्र / छात्राओं का डाटा सस्पेक्ट (त्रुटिपूर्ण) होगा, वही छात्र/छात्रायें आवेदन में संशोधन कर सकेंगे। सस्पेक्ट का रीजन (कारण) छात्र/छात्राओं के लॉगिन के पश्चात् करेन्ट स्टेटस में प्रदर्शीत होगा। यदि किसी छात्र का बैंक रिस्पान्स (पी०एफ०एम०एस०) नहीं आया है या बैंक रिस्पान्स त्रुटिपुण है। ऐसे समस्त छात्र / छात्रायें भी अपने आवेदन में बैंक सम्बन्धी विवरण को अपडेट कर सकेंगे। यदि छात्र/छात्राओं की उपस्थिति सम्बन्धी (शिक्षण संस्थान स्तर से फारर्वड करते समय) वितरण भी त्रुटिपूर्ण है तो सम्बन्धित शिक्षण संस्थान से पूनः सत्यापित कराना सुनिश्चित करें। छात्र / छात्राओं के आवेदन में संशोधन के उपरान्त सम्बन्धित कालेज से सत्यापित कराकर फारवर्ड कराना होगा। तभी आवेदन पत्र संशोधन पूर्ण माना जायेगा। छात्र / छात्राओं द्वारा भरे गये परीक्षा फल सम्बन्धी विवरण तथा कालेज स्तर से फारवर्ड करते समय भरे गये अंक समान होने चाहिये।


अतः जनपद के समस्त छात्र / छात्राओं को सूचित किया जाता है कि उपरोक्तानुसार कार्यवाही करें एवं जनपद के समस्त शिक्षण संस्थानों को निर्देशित किया जाता है कि संस्थान अपने वाट्सअप ग्रुप में सम्मलित करते हुये छात्रों को अपने स्तर से भी अवगत करायें कि सशोधन किये जाने हेतु दिनांक 19 जनवरी, 2022 दिनांक 27 जनवरी, 2022 तक छात्र द्वारा आनलाइन आवेदन में की गयी त्रुटियों को सुधार करते हुये पुनः आवेदन आनलाइन सबमिट किया जाना है। तद्पश्चात हार्ड कॉपी सम्बन्धित संस्था में जमा किया जाना सुनिश्चित करें।


रिपोर्ट धीरज सिंह

No comments