Breaking News

Akhand Bharat

लाखों भक्तों ने हनुमत महायज्ञ में किए प्रसाद ग्रहण







बलिया - दुबहर के ग्राम सभा अड़रा स्थित श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर के प्रांगण में श्री हनुमत महायज्ञ का समापन रविवार को महायज्ञ की पूर्णाहुति आचार्यों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चारण कर यजमानो द्वारा किया गया। तथा भव्य भंडारे के साथ यज्ञ का समापन हुआ।

श्री हनुमत महायज्ञ के आयोजक बाल संत हरिदास जी महाराज के नेतृत्व में पूर्ण किया गया जिसमें काफी बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्तों द्वारा प्रसाद ग्रहण किया गया। जिसमें क्षेत्र के हजारों पुरुष एवं महिलाओं ने प्रसाद ग्रहण कर पुण्य के भागी बने।वही श्री संकट मोचन नव युवक मंगल दल के सभी सदस्यों के द्वारा यज्ञ में दी गई सेवा एवं सहयोग सराहनीय रहा। ज्ञात हो कि ग्राम सभा अड़रा के श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर के निकट मैदान में 25 फरवरी से 5 मार्च तक यज्ञाचार्य पंडित लालजी शास्त्री के वैदिक मंत्रों द्वारा पूजा, अर्चना का कार्यक्रम अनवरत चलता रहा। जिसमें यज्ञ के आठवें दिन शनिवार के रात्रि को शिव विवाह का कार्यक्रम बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। जिसमें शिव विवाह के उत्सव में मनोहारी झांकी बड़ी धूमधाम से निकाला गया। इस अवसर पर महिलाओं ने मंगल गीत गाकर उपस्थित लोगों को खूब झुमाई। क्षेत्र के लोगों ने एक दूसरे को जमकर अबीर, गुलाल लगाकर होली की बधाई दी एवं युवाओं ने गीतों की धुन पर जमकर डांस किया जिसे देखकर उपस्थित श्रद्धालु भी तालियां बजाकर झूम झूम कर नाच उठे। ज्ञात हो कि बाल संत हरिदास जी महाराज के नेतृत्व में 9 दिनों तक चले इस जग में कथावाचक पंडित अरविंद शास्त्री, शक्तिपुत्र ' बुलेट बाबा ', कथा वाचिका मानस मंजरी आरती पाठक, मानस किंकरी साध्वी साधना जी द्वारा राम कथा, शिव महिमा, हनुमत कृपा, की कथा का रसपान कराया गया। इस अवसर पर, हरि नारायण सिंह, राज नारायण पांडे, जय शंकर पांडे,राज नाथ सिंह,राजू सिंह फ़ौजी, जनार्दन सिंह,गुड्डू सिंह, आर्यन सिंह, जेपी सिंह, अनन्त सिंह, विवेक सिंह, पप्पू यादव,अशोक सिंह,राजू शर्मा, रविश सिंह, शैलेंद्र सिंह, अरुण सिंह, कमल किशोर सिंह, नितिन सिंह,चंदन सिंह, अमित सिंह, जय नारायण सिंह,राहुल सिंह, रितेश सिंह, नितिन सिंह, सूरज सिंह, नितेश सिंह, रोहित सिंह, अंकित सिंह, अनिकेत सिंह आदि रहे तथा यज्ञ की पूर्णाहुति के पश्चात अन्नपुर्णा नन्द तिवारी ने सभी क्षेत्रवासियों को आभार जताये।


रिपोर्ट त्रयंबक पांडेय गांधी

No comments