Breaking News

Akhand Bharat welcomes you

मानव तस्करी: शादी का झांसा देकर करते थे बेटियों का सौदा, गिरफ्तार




लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के आदिवासी अंचलों से गरीब परिवार की लड़कियों को राजस्थान, हरियाणा में बेचने वाले बड़े गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। गिरोह के 13 सदस्यों को गिरफ्तार करते हुए पुलिस ने उनके पास से 80 हजार रुपये नकद भी बरामद किया है। उनके कब्जे से एक लड़की को मुक्त कराया है। पकड़े गए तस्करों में चार राजस्थान के रहने वाले हैं, जबकि एक मुक्त कराई गई लड़की की ही मां है। इस मामले में पुलिस ने गिरोह के तीन अन्य सदस्यों को भी चि​ह्नित किया है। उनकी तलाश की जा रही है। पुलिस का दावा है कि गिरोह ने जिले की 8-10 अन्य लड़कियों को भी बेचा है। उनकी तस्दीक कराई जा रही है।

पुलिस लाइन सभागार में एसपी डॉ. यशवीर सिंह ने बताया कि जिले में सक्रिय गिरोह के बारे में कई दिनों से सूचना मिली रही ​थी, जो अच्छे घरों में शादी कराने का झांसा देकर यहां के गरीब परिवारों की लड़कियों को गैर प्रांतों में बेचते हैं। टीम गठित कर गिरोह के बारे में सूचना जुटाई जा रही थी। इस बीच सोमवार की रात मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने राबर्ट्सगंज नगर के चंडी तिराहे पर खड़े कुछ संदिग्धों को पकड़ा। पूछताछ में मानव तस्करी में संलिप्त बड़े गिरोह का पर्दाफाश हुआ। एसपी ने बताया कि चार महिलाओं समेत कुल 13 लोग पकड़े गए हैं। उनके चंगुल से एक लड़की को भी मुक्त कराया गया, जिसे तीन लाख रुपये में राजस्थान के कुछ लोगों को बेचने की तैयारी थी। तस्करी में उसकी मां भी शामिल रही। सदस्यों के पास से तय सौदे के 80 हजार रुपये नकद बरामद हुए हैं, जबकि 1.20 लाख रुपये अलग-अलग खातों में ट्रांसफर किए जाने की जानकारी मिली है। तस्करों ने बताया कि वह पहले भी कई लड़कियों को 2-3 लाख में राजस्थान, हरियाणा और प​​श्चिम यूपी के जिलों में बेच चुके हैं। इसमें से कुछ लड़कियां ऐसी हैं, जो कुछ दिन बाद वापस लौट जाती हैं तो कुछ शादीशुदा महिलाएं भी हैं। एसपी ने बताया कि सभी के बारे में छानबीन कराई जा रही है। उन्हें बेचे गए पते पर भी जानकारी ली जा रही है। फिलहाल गिरफ्तार 13 तस्करों के विरुद्ध केस दर्ज कर कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया गया है। उनके तीन अन्य सा​थियों की तलाश की जा रही है। एसपी ने गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम को 25 हजार रुपये इनाम देने की भी घोषणा की है।

---------

ये तस्कर चढ़े पुलिस के हत्थे 

राजस्थान के बाड़मेर जिले के बालोतरा थाना क्षेत्र निवासी मंसूख, बैतू थाना क्षेत्र निवासी सांवला राम, बिजलीपार थाना क्षेत्र निवासी तगाराम, उसका भाई भवरा राम के अलावा राबर्ट्सगंज कोतवाली क्षेत्र के नागनार हरैया निवासी विजय कुमार, उसकी पत्नी मीरा देवी, पन्नूगंज थाना क्षेत्र के गौरवां निवासी राजेंद्र यादव उर्फ राजू, महुआंव हिंदुआरी निवासी अर्जुन कुमार, पन्नूगंज थाना क्षेत्र रामगढ़ मझगवां निवासी बिहारी भारती, मुन्नी देवी, तेलाड़ी निवासी प्रशांत मिश्र, करमा के भरुहां माइनर निवासी ​शिवकुमारी देवी, पन्नूगंज के रामगढ़ निवसी कलावती देवी को पुलिस टीम ने गिरफ्तार किया है।

----

इंस्पेक्टर बनकर रौंब गांठता था प्रशांत

एसपी ने बताया कि तस्करों के गिरोह में शामिल प्रशांत गैर प्रांतों से लड़की लेने आने वालों को पुलिस इंस्पेक्टर बनकर पकड़ता था। फिर उन्हें डरा-धमकाकर धनउगाही करता था। गिरोह का सदस्य होने के नाते उसे हर सौदे की जानकारी होती थी। लिहाजा राजस्थान, हरियाणा से आने वालों को ऐन वक्त पर वह दबोचता था, जब वह सौदेबाजी कर रहे होते थे। 



डेस्क

No comments