Breaking News

Akhand Bharat welcomes you

अश्विनी वैष्णव के दूसरी बार रेलमंत्री बनने पर रेवती को स्टेशन बहाल होने की लोगों में जगी आस

 


 रेवती (बलिया) सवा सौ वर्ष पुराने तथा सन 1942 के अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन में महत्वपूर्ण योगदान देने तथा पूरे देश में सबसे पहले 15 अगस्त को आजाद होने के बावजूद बीते 2023 में रेवती रेलवे स्टेशन को रेल प्रशासन द्वारा स्टेशन से हाल्ट घोषित कर दिया गया। जिसके चलते यह पूरी तरह से यात्री सुविधा विहिन स्टेशन बन कर रह गया है।

यहां अप साइड का प्लेटफार्म खत्म कर दिया गया है, जिससे  यात्रा करने वाले सवारियों को ट्रेन में चढ़ने उतरने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है, वहीं वृद्ध, विकलांग व महिलाएं चढ़ने के प्रयास में आए दिन चोटिल होते रहते हैं। शेड के अभाव में यात्री धूप में खड़े होकर ट्रेन में चढ़ते उतरते हैं। यहां छपरा-दुर्ग सारनाथ एक्सप्रेस, छपरा-लखनऊ उत्सर्ग एक्सप्रेस, बलिया-सियालदह तथा छपरा-वाराणसी इन्टरसिटी चार-चार एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव सुनिश्चित होने से छपरा-बलिया के बीच सुरेमनपुर व सहतवार को छोड़कर तीसरा सर्वाधिक आय वाला स्टेशन है। बावजूद यहां ठेका पर टिकट की बिक्री की जाती है। ट्रेनों के आवागमन के एलाउंसमेंट तथा कंप्यूटरीकृत टिकट की बिक्री व्यवस्था सुनिश्चित नहीं हो पाई है। पेयजल, शौचालय,साफ-सफाई का भी सर्वथा अभाव है।

बीते दिसंबर 23 में बलिया-सियालदह एक्सप्रेस ट्रेन के ठहराव सुनिश्चित होने पर पूर्व सांसद सलेमपुर रविन्द्र कुशवाहा की मौजूदगी में एडीआरएम वाराणसी द्वारा रेवती स्टेशन पर यात्री सुविधाओं के विस्तार तथा स्टेशन बहाल किए जाने के संबंध में आश्वासन दिया गया था। अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल रेवती के अध्यक्ष विरेंद्र गुप्ता, महामंत्री राजेश केशरी गुड्डू, भाजपा नेता भोला ओझा, प्रधान विसनपुरा अर्जुन चौहान, आशुतोष सिंह लालू ने अश्विनी वैष्णव के दूसरी बार रेलमंत्री का कार्य भार संभालने पर बधाई देते हुए रेवती रेलवे स्टेशन को पहले की तरह स्टेशन बहाल करते हुए यात्री सुविधाओं के विस्तार कराये जाने की मांग की है।


पुनीत केशरी

No comments