Breaking News

समाजिक दूरी बनाने से ही बचा जा सकता है कोरोना वायरस महामारी रोग से



मनियर, बलिया । पूरी दुनिया के सामने महामारी के रुप में विकट परिस्थिति पैदा करने वाले कोरोना वायरस को लेकर लोगों में सतर्कता का असर क्षेत्र में भी दिखाई देने लगा है। प्रधानमंत्री के आह्वान पर 22 मार्च को आहूत देशव्यापी जनता कर्फ्यू के बाद आम जनता में न केवल जागरुकता बढ़ी है बल्कि लोग दिन प्रतिदिन इससे बचाव के लिए शासन-प्रशासन द्वारा की जा रही अपील व दिशा-निर्देशों का भी बखूबी पालन करते नजर आ रहे हैं। लोगों में सतर्कता व जागरुकता हेतु विभिन्न माध्यमों के द्वारा सरकार द्वारा जारी किए जा रहे दिशा-निर्देशों व अपील का ही असर है कि समाज का एक बड़ा हिस्सा घर पर रहते हुए एक-दूसरे से समुचित दूरी बनाने में लगा है। ताकि वक्त रहते इस भंयकर महामारी पर नियंत्रण पाया जा सके । आम दिनों की अपेक्षा सड़कों पर जहाँ भीड़ काफी कम है वहीं बाजार-हाट भी अपेक्षाकृत सुनसान नजर आ रहे हैं। आवश्यक कार्यों के कारण विशेष परिस्थितियों में घर से बाहर निकलने वाले अधिकांश लोग भी मास्क, रुमाल, गमछा, सेनिटाइजर आदि के साथ ही आवश्यक परहेजों का पालन करते दिखाई दे रहे हैं। चिकित्सकों का भी कहना है कि इस वक्त जो चीज सबसे ज्यादा आवश्यक है वो है सामाजिक दूरी । इसे सीधे शब्दों में कहें तो हम अपने आसपास के लोगों  के निकट सम्पर्क में न आएँ और उनसे दूरी बनाएँ रखें । साथ ही खाँसतें व छींकते समय भी मुँह पर रुमाल आदि रखें तथा समय-समय पर हाथों को साबुन से धोते रहें और मुँह,नाक,कान,आँख के सीधे सम्पर्क से बचें । क्योंकि इससे कोरोना वायरस के फैलने की तीव्रता में कमी आती है। और संक्रमण की संभावना भी कम होती है। लोग इसबात का ध्यान रखने लगे हैं कि उनमें और दूसरों में दूरी जितनी अधिक होगी, कोरोना वायरस के फैलने की संभावना भी उतनी ही कम होगी। यही कारण है कि लोग भीड़ से बचने का प्रयास भी कर रहे है और अपने घर पर ही समय गुजार रहे हैं। साथ ही अपने दोस्तों, रिश्तेदारों से बात करने व जुड़ने के लिए मोबाइल फोन व सोशल मीडिया का ही इस्तेमाल कर रहे हैं।



रिपोर्ट : राममिलन तिवारी

No comments