Breaking News

लॉकडाउन में रखा जा रहा जरूरी सुविधाओं का पूरा ख्याल: डीएम


बलिया: जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने कहा कि लॉकडाउन के बीच लोगों को कोई दिक्कत न हो इसका विशेष ख्याल रखा जा रहा है। दैनिक आवश्यकता की हर वस्तु की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जा रही है। इसके लिए नगरीय क्षेत्र में 31 मोबाइल वाहन संचालित हैं। हर वार्ड में फल, सब्जी एवं किराना की एक-एक दुकान चिन्हित कर सुबह 7 बजे से 11 बजे तक खुलवाई जा रही है। यह भी बताया कि जिले में गैस, पानी, दूध की सप्लाई सुचारू रूप से चल रही है। इस पर किसी प्रकार की रोक नहीं है। पशुओं का खाद्यान्न भूसा की उपलब्धता भी सुनिश्चित कराई जा रही है। दवा की दुकान भी पूरे जनपद में खुली है। इस पर निगरानी के लिए सभी प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी लगातार गतिशील है।

दुकानों पर पेंट से चिन्हित करें खड़े होने का स्थान

बलिया: डीएम श्रीहरि प्रताप शाही व एसपी देवेंद्र नाथ के अलावा सभी एसडीएम-सीओ ने क्षेत्र में भ्रमण कर स्थिति देखी। निरीक्षण के दौरान दुकानदारों ने सामानों की आपूर्ति में कोई समस्या नहीं बताई। दुकानों से सामान खरीदने वाले उपभोक्ताओं को व्यवस्थित तरीके से लाईन लगाकर तथा लाईन में एक मीटर की दूरी बनाते हुए सामान उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराने हेतु सभी दुकानदारों को निर्देशित किया गया। सभी  थानाध्यक्ष को यह निर्देश दिया गया है कि सुबह 7 से 11 बजे तक चिन्हित फल, सब्जी, प्राविजनल स्टोर व दवा की दुकानों का भ्रमण कर प्रत्येक दुकान पर पेंट, गेरू आदि के माध्यम से उपभोक्ताओं के खड़े होने के लिए स्थायी निशान दुकानदारों के माध्यम से बनवाएं। हर हाल में सोशल डिस्टेंस का पालन होना चाहिए।

व्यापारियों से अपील, सामाजिक दायित्व का करें निर्वहन

डीएम श्री शाही ने व्यापारियों से यह अपील किया कि इस समय अपने सामाजिक उत्तरदायित्व का निर्वहन करते हुए सही दाम पर आवश्यक सामग्रियों को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। किसी भी स्थिति में जमाखोरी, मुनाफाखोरी की दशा में प्रशासन की ओर से सम्बन्धित के विरूद्ध सख्त विधिक कार्यवाही की जायेगी। एसडीएम सदर व रसड़ा ने अपने क्षेत्र के बड़े आटा व खाद्यान्न कारोबारियों के यहां जांच कर जमाखोरी नहीं हो, यह सुनिश्चित करा रहे हैं।

जनता से अपील, आपाधापी में अतिरिक्त समान न खरीदें

जिलाधिकारी ने आम जनता से अपील की है कि पूरी तरह से आश्वस्त रहें। आवश्यक वस्तुओं की निरन्तरता व आपूर्ति सही दाम पर मिलती रहेगी। यह व्यवस्था हर दिन चलती रहेगी। किसी प्रकार की आपाधापी व अतिरिक्त सामान खरीद कर रखे जाने की सोच व घबड़ाहट से बचें।


उल्लंघन करने पर हुई सात एफआईआर, 592 वाहनों पर भी कार्रवाई

- कोरोना वायरस को लेकर पूरे भारत में लाकडाउन को हल्के में लेने वाले अब सावधान हो जाएं। काफी दिनों से की जा रही अपील के बाद प्रशासन की ओर से कार्रवाई भी होने लगी है। जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने बताया कि जनपद में लागू लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर सात एफआईआर दर्ज करायी गयी है। इसके अलावा 21 वाहनों को सीज किया गया है और 571 वाहनों का चालान किया गया है। शमन शुल्क के रूप में 2 लाख 17 हजार 300 रुपये की वसूली की गयी है। उन्होंने स्पष्ट किया है कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर अब इससे भी बड़ी कार्रवाई देखने को मिल सकती है।


निराश्रित, मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्तियों की सहायता को आगे आएं लोग

बलिया: जिलाधिकारी ने कहा कि इस आपदा की घड़ी में सहयोग के लिए हर किसी को आगे आना होगा। उन्होंने निराश्रित, मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्तियों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए जन सामान्य व विभिन्न संगठनों से अपील की है कि यदि पैक्ड फूड/लंच पैकेट उपलब्ध कराना चाहते हैं तो प्रति तहसील 100-100 पैकेट उपलब्ध करायें, ताकि ऐसे निराश्रित, मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्तियों को एक स्थान पर रोककर भोजन कराया जा सके। इस क्रम में गुरूद्वारा कमेटी, बलिया द्वारा प्रतिदिन 100-200 पैक्ड लंच पैकेट 27 मार्च से उपलब्ध कराया जा रहा है, जो उपजिलाधिकारी के माध्यम से वितरित कराया जाएगा।
तात्कालिक व्यवस्था के अन्तर्गत बलिया कल्याण व विकास समिति, बलिया और सानन्द सिंह (9415356527) की ओर से सभी एसडीएम को चावल, आटा, अरहर दाल, मूंग दाल, हल्दी, मिर्च व धनिया, तेल, हैण्डवाश, चीनी, चायपत्ती, आलू, प्याज व नमक आदि सामग्री के 10-10 पैकेट ऐसे व्यक्तियों/ परिवारों की तात्कालिक सहायता के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है।

होम डिलीवरी भी है प्रशासन का उद्देश्य

जिलाधिकारी ने बताया, प्रशासन का यह भी उद्देश्य है कि लॉकडाउन की अवधि में लोगों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति होम डिलीवरी के माध्यम से घर-घर मिल सके। ऐसे में फल, सब्जी, प्राविजनल स्टोर के दुकानदारों से अपील की गई है कि यदि वे वस्तुओं की आपूर्ति होम डिलीवरी के माध्यम से घर-घर दिये जाने के लिए इच्छुक हैं, तो सम्बन्धित उप जिलाधिकारी अथवा नियन्त्रण कक्ष के दूरभाष नं0 05498-220857 पर अपनी सहमति दर्ज करायें, ताकि उन्हें होम डिलीवरी के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति किये जाने की अनुमति दिये जाने की कार्यवाही की जा सके।


सरकार देगी एक माह का निःशुल्क राशन

देहाड़ी मजदूरों के लिए भरण पोषण के लिए व्यवस्था

बलिया: कोरोना वायरस की समस्या को देखते हुए दैनिक रूप से कार्य करने वाले मजदूरों के भरण-पोषण को लेकर लिए भी सरकार गंभीर है। जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार एक माह का निःशुल्क राशन उपलब्ध कराए जाने का निर्णय लिया गया है। यह व्यवस्था अंत्योदय ग्रामीण क्षेत्र, अंत्योदय शहरी क्षेत्र, मनरेगा जॉब कार्डधारक, श्रम विभाग में पंजीकृत निर्माण श्रमिक और दिहाड़ी मजदूरों के लिए है। उन्होंने सिटी मजिस्ट्रेट, सभी एसडीएम, जिला पूर्ति अधिकारी, डिप्टी आरएमओ, उप श्रमायुक्त और सभी बीडीओ को पत्र जारी कर समय बद्ध रूप से चयनित परिवारों को एक माह का निशुल्क राशन उपलब्ध कराने की कार्यवाही के लिए निर्देशित किया है।

दरअसल, शासन की गाइडलाइन के अनुसार अप्रैल में प्रदेश के समस्त अंत्योदय परिवारों को वितरित होने वाला राशन 35 किलोग्राम प्रति परिवार की दर से निशुल्क वितरित किया जाएगा। इन परिवारों द्वारा कोटेदार को जो 85 रुपये प्रति परिवार की दर से भुगतान होता है, वह एसडीएम द्वारा कोटेदार के बैंक खाते में वितरण प्रमाणित होने के बाद भेजी जाएगी। निशुल्क वितरण सुनिश्चित कराने के लिए संबंधित एसडीएम उस कोटेदार के यहां नोडल अधिकारी नियुक्त करेंगे।

हर जरूरतमंद को मिलेगी सहायता

जिलाधिकारी ने कहा है कि शासन की ओर से संस्तुति की गई व्यवस्था के अनुसार सहायता देने के बाद भी ऐसे व्यक्ति बच सकते हैं, जिनके पास परिवार के भरण-पोषण की सुविधा नहीं है। उनकी भी सहायता के लिए व्यवस्था दी गई है। ग्रामीण क्षेत्र में संबंधित खंड विकास अधिकारी और पंचायत सचिव की समिति ऐसे व्यक्तियों की परिस्थितियों की जांच करेगी और सहायता के लिए अपनी संस्तुति जिलाधिकारी को उपलब्ध कराएगी। शहरी क्षेत्र में नगर मजिस्ट्रेट या एसडीएम एवं संबंधित निकाय के ईओ की समिति अपनी संस्तुति जिलाधिकारी को देगी।


अपने कर्मियों से संपर्क बनाए रखें सभी अधिकारी

बलिया: सीडीओ बद्रीनाथ सिंह ने विकास विभाग के समस्त अधिकारियों को निर्देश दिया कि अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के संपर्क में हमेशा रहेंगे, ताकि किसी भी आपातकाल की स्थिति में उनसे शासकीय कार्य का संपादन कराया जा सके। यह भी कहा है कि किसी भी अधिकारी कर्मचारी से समूह में कार्य न कराया जाए और कार्यालय में साबुन, डिटॉल, सेनेटाइजर आदि की समुचित व्यवस्था भी सुनिश्चित कराई जाए। सभी अधिकारी अपने अधीनस्थ कर्मचारियों का कार्यालय में आने-जाने के लिए अपने स्तर से परिचय पत्र भी जारी कर दें।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments