Breaking News

> > >

ग्रामीण क्षेत्रों में आज से खुलेंगी चिन्हित दुकानें





बलिया: कोराना वायरस (कोविड-19) को लेकर लागू लॉकडाउन में खाद्यान, फल, सब्जी आदि जैसी आवश्यक सामग्री की दुकानें 28 मार्च से ग्रामीण क्षेत्रों में भी सुबह 7 से 11 बजे तक खुलेंगी। ग्रामीण क्षेत्रों में दुकान चिन्हित करने की कार्यवाही सम्बन्धित गांव के ग्राम प्रधान द्वारा इस आधार पर की जायेगी कि सम्बन्धित दुकानदार के पास आपूर्ति के लिए पर्याप्त सामान उपलब्ध रहे और दुकान भी ग्राम के केन्द्र में रहे। दुकान के निर्धारण के सम्बंध में सम्बन्धित एसडीएम, बीडीओ व थानाध्यक्ष भ्रमण के दौरान सत्यापन कर उचित व्यवस्था सुनिश्चित कराएंगे। दुकान पर ग्राहकों के बीच एक मीटर की दूरी बनी रहे, इसके लिए चिन्ह लगाया जायेगा।

फसल काटने जाएं किसान, पर खेतों में भी बनाए रखें दूरी

ग्रामीण क्षेत्रों में गेहूं, सरसो, मसूर, चना, मटर आदि की फसलें काटने की स्थिति में आने वाली हैं। इसको देखते हुए ग्राम के किसान व मजदूरों को फसल सम्बन्धित आवश्यक कार्यों को करने की छूट इस अपील के साथ है कि इस दौरान दो व्यक्तियों के बीच एक मीटर की दूरी बनी रहीं। खेतों में भी यह दूरी बनाकर ही काम किया जाए। अपनी व समाज की सुरक्षा के उपाय के लिए हर कोई सतर्क रहें।  


मिलर व गैस एजेन्सी मालिकों संग की बैठक

जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने बताया कि गैस सिलेण्डर, आटा तथा सरसों के तेल आदि जैसे जरूरी सामान की कोई कमी नहीं रहेगी, इसके लिए लगातार समीक्षा की जा रही है। शुक्रवार को आटा मिल और गैस एजेंसी के मालिकों के साथ उन्होंने बैठक भी की। आटा मिल के सभी संचालकों से गेहूॅं के आटा की उपलब्धता पर चर्चा हुई। भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से गेहॅूं की उपलब्धता कराये जाने पर विशेष जोर दिया गया। इसी प्रकार गैस सिलेण्डर के सम्बन्ध में गैस एजेन्सी मालिकों से कहा कि सम्बन्धित कम्पनी के अधिकारियों से वार्ता कर गैस की आपूर्ति बनाए रखें।  


भोजन व राशन वितरण की तेजी से चल रही कार्यवाही

जिलाधिकारी ने बताया कि विभिन्न संस्थाओं, संगठनों तथा व्यक्तियों की ओर से निराश्रित, गरीब व्यक्तियों व परिवारों, रिक्शे वालों, फॅंसे हुए मजदूर, खोमचे वालों को यथा आवश्यकता कूक्ड फूड का पैकेट या राशन सामग्री का पैकेट जिला प्रशासन द्वारा वितरित कराया जा रहा है। राज्य सरकार की ओर से दैनिक मजदूरों, मनरेगा जॉबकार्डधारकों तथा ठेला पटरी वालों को अनुमन्य राशन वितरण की कार्यवाही तेजी से करायी जा रही है। जाबकार्डधारकों के खाते में भारत सरकार की ओर से एक हजार रूपया खाता में भेजे जाने का कार्य शुरू हो गया है। ऐसे सभी संगठन जो खाद्यान्न का पैकेट या बने हुए खाने का पैकेट उपलब्ध कराने के इच्छुक हैं, वे सम्बन्धित उप जिलाधिकारी, क्षेत्राधिकारी से सम्पर्क कर उपलब्ध करा सकते हैं, जिनको जनपद के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित ऐसे जरूरतमंद व्यक्तियों, परिवारों को उप जिलाधिकारी, क्षेत्राधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी, सेक्टर मजिस्ट्रेट व थानाध्यक्ष के माध्यम से वितरित कराया जायेगा। ग्राम प्रधानों से अपील की गयी है कि अपने ग्राम में यह ध्यान रखें कि किसी भी व्यक्ति या परिवार के समक्ष भूखमरी की स्थिति उत्पन्न न हो। ऐसे परिवार का तत्काल सहयोग किया जाय। तत्काल सहयोग के लिए कन्ट्रोल रूम व सम्बन्धित उप जिलाधिकारी को भी सूचित करें।


बाहरी जिलों से पैदल आ रहे मजदूरों के लिए भी भोजन की व्यवस्था


जिलाधिकारी ने बताया कि विभिन्न जनपदों से पैदल आ रहे मजदूरों को भोजन के पैकेट व पानी दिए जाने के लिए सभी थानाध्यक्ष को निर्देशित किया जा चुका है। रसड़ा व बलिया शहर कोतवाल द्वारा ऐसा किया भी जा रहा है। समस्त तहसीलों में शुक्रवार को कुल मिलाकर 4 हजार बने बनाए भोजन के पैकेट का वितरण किया गया।

मंडी में खुदरा व्यापारी ही आएंगे, उपभोक्ता नहीं

जनपद में सभी मण्डी समितियों व कोल्ड स्टोरेज से सम्बन्धित किसानों के द्वारा लायी जाने वाली आवक का संचालन पहले की तरह होता रहेगा। पशुओं के चारे, खाद्य पदार्थ तथा दवाओं आदि का संचालन भी बना रहेगा। परन्तु मण्डी समितियों में व्यक्तिगत खरीद या फुटकर खरीद वाले उपभोक्ताओं का प्रवेश नहीं होगा। केवल खुदरा व्यापारी ही इसमें जाने के लिए अधिकृत होगें। इसका अनुपालन सभी एसडीएम, थानाध्यक्ष एवं मंडी सचिवों द्वारा कराने के निर्देश दिए गए हैं। पशु चिकित्सालय व पशुओं के चारे आदि से सम्बन्धित दुकानें भी खुली रहेगीं।


अब तक हुए 16 मुकदमे, 40 गिरफ्तार

जनपद में लॉकडाउन ब्रेक करने के कारण पुलिस ने अब तक 16 
एफआईआर दर्ज किया है। इसके अलावा 40 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 23 वाहन सीज किए गए हैं। जिलाधिकारी ने लोगों से अपील किया है कि इस खतरनाक वायरस के खिलाफ चल रही लड़ाई में हर कोई अपना योगदान दें। लॉकडाउन का अक्षरक्षः पालन करें। 

बाहरी जिलों के फंसे मजदूरों के रुकने, खाने-पीने की व्यवस्था

तहसील बैरिया में जयप्रकाशनगर व कोड़हरा नौबरार में गैरजनपद के फंसे मजदूरों तथा तहसील रसड़ा के सीतापुर में लगभग 30 खोमचे वालों के रूकने व खानपान की व्यवस्था सम्बन्धित उप जिलाधिकारी द्वारा करायी गयी है। डीएम ने जनपदवासियों से भी अपील की है कि अपने आसपास इस प्रकार के निराश्रित व फंसे हुए व्यक्तियों तथा जानवरों का अपनी ओर से ख्याल रखें। यदि इस प्रकार की कोई जानकारी प्राप्त होती है तो तत्काल कन्ट्रोल रूम या सम्बन्धित एसडीएम को अवगत कराएं, ताकि उनका सहयोग किया जा सके।

धैर्य बनाएं रखें

जिलाधिकारी ने जनपदवासियों को संदेश दिया है कि जिला प्रशासन व पुलिस लगातार आप सबके साथ है और हर समस्या के निदान के लिए पूरी तरह से प्रयासरत हैं। सबसे अपेक्षा है कि धैर्य बनाये रखें, आवश्यक सामग्रियों के भण्डारण के लिए परेशान न हों। कोरोना को फैलने से रोकने के लिए आवश्यक सतर्कता, घरों के बने रहना, एक मीटर की दूरी बनारे रखना तथा विदेश या अन्य महानगरों से आये व्यक्तियों को 15 दिन तक पूरी तरह आईसोलेशन में रखे जाने सम्बन्धी सतर्कता बिन्दुओं में सहयोग करें। यही लॉकडाउन का उद्देश्य है।      

आवश्यक वस्तुओं को खरीदने जाने वालों के लिए भी एडवायजरी जारी

बलिया: लॉकडाउन के बीच, आवश्यक वस्तुएं खरीदने जाने वाले आम जनता के लिए भी जिला प्रशासन ने एक एडवाइजरी जारी की है। 
इसके मुताबिक हर परिवार अपने सदस्यों में किसी एक व्यक्ति को चिन्हित करें जिनकी उम्र 20 से 40 वर्ष हो और वह किसी अन्य बीमारी जैसे डायबिटीज आदि से ग्रसित ना हो। वह चिन्हित व्यक्ति ही हर बार आवश्यक वस्तुओं को खरीदने के लिए बाहर जाए। यह भी ध्यान रहे कि रोज-रोज नहीं, बल्कि कम से कम तीन दिन के बाद ही एक बार घर से बाहर निकले। घर से बाहर निकलते समय पूरी बांह के कपड़े पहने और मास्क लगाएं। वापस आकर उन कपड़ों व हाथों को साबुन तथा डिटर्जेंट से धोएं। दुकान पर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए समय से दूरी बनाए रखें। इसके लिए भी सभी दुकानदार अपनी दुकान के आगे एक मीटर की दूरी पर पेंट या चुने से चिन्ह लगाएं, जिससे दुकान पर भीड़भाड़ न हो। खरीदे हुए सामान को घर पर भी सेनेटाइज करें। सेनेटाइज के लिए साबुन, नमक, गर्म पानी का घोल भी काफी उपयोगी है। संयुक्त मजिस्ट्रेट विपिन कुमार जैन ने लोगों से अपील की है कि हर कोई इसका पालन कर कोरोना के संक्रमण से खुद भी बचें रहें और अपने परिवार व समाज को भी सुरक्षित रखें।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments