Breaking News

हर जरूरतमंद तक सहायता देने में गम्भीरता से लगा है जिला प्रशासन: जिलाधिकारी



बलिया: जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने  कहा है कि कोविड-19 की आपदा को देखते हुए हर जरूरतमंद तक सहायता पहुंचाने के लिए जिला प्रशासन गंभीरता से लगा है। मुख्य विकास अधिकारी बद्रीनाथ सिंह ने बताया कि जिले में कुल 2 लाख 73 हजार मनरेगा जॉब कार्डधारक हैं, जिसमें नियमित रूप से कार्य करने वालों की संख्या 82 हजार 366 है। इसमें सबसे ज्यादा मजदूर रसड़ा ब्लॉक में है।
सीडीओ श्री सिंह ने बताया कि ऐसे सक्रिय मनरेगा जॉब कार्ड धारक, जिनके पास पात्र गृहस्थी श्रेणी का राशन कार्ड है उनको अप्रैल महीने में 5 किलोग्राम प्रति यूनिट तथा जिनके अंत्योदय श्रेणी का राशन कार्ड हैं, उन्हें 35 किलोग्राम निःशुल्क राशन दिया जाएगा। जिनके पास राशन कार्ड है ही नहीं, उनके परिवार में महिला मुखिया का आधार कार्ड, बैंक पासबुक की छायाप्रति व फोटो संबंधित खंड विकास अधिकारी को उपलब्ध कराना होगा, ताकि राशन कार्ड बना कर राशन दिया जा सके।


किसी योजना से लाभान्वित नहीं उनके लिए भी व्यवस्था

सीडीओ ने बताया कि ऐसे मनरेगा जॉब कार्डधारक, जिनका पंजीकरण श्रम विभाग में श्रमिक के तौर पर हुआ है, उन्हें डीबीटी के माध्यम से एक हजार की धनराशि भेजी जा रही है। इसके अलावा ऐसे परिवार जो किसी योजना के अंतर्गत लाभान्वित नहीं है उनके लिए ग्राम प्रधान, सचिव व खंड विकास अधिकारी की संस्तुति पर एक हजार की धनराशि डीबीटी के माध्यम से भेजी जाएगी और निशुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाएगा।


सक्रिय मनरेगा जाब कार्डधारकों की ब्लॉकवॉर संख्या

सक्रिय मनरेगा मजदूरों की ब्लॉकवार जानकारी देते हुए सीडीओ ने बताया कि विकास खण्ड बैरिया में 2680, बांसडीह में 3824, बेलहरी में 3917, बेरुवारबारी में 2837, चिलकहर में 7197, दुबहड़ में 3485, गड़वार में 5210, हनुमानगंज में 3273, मनियर में 7123, मुरली छपरा में 2649, नगरा में 6580 मनरेगा मजदूर है।  इसी प्रकार नवानगर में 4830, पंदह में 4973, रसड़ा में 9318, रेवती में 4177, सीयर में 5631 और सोहांव में 4662 मनरेगा जॉब कार्डधारकों की संख्या है।



रिपोर्ट : धीरज सिंह

No comments