Breaking News

मुख्य प्रवेश मार्ग पर नाबदान का पानी गिरने से चलना हुआ मुश्किल, राहगीर परेशान



रतसर(बलिया) जनपद के विभिन्न बाजारों में अपना प्रमुख स्थान रखने वाला एतिहासिक बाजार रतसड़ अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है, किन्तु इस तरफ किसी को ध्यान देने की फुर्सत नहीं है। प्रशासनिक व जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से प्रभावित अपने अतीत के गौरव को संजोए वर्तमान में बदहाल इस बाजार की मुख्य सड़क के प्रवेश द्वार (दक्षिणी चट्टी) में जल निकासी की समुचित व्यवस्था न होना इसके विकास में इस समय मुख्य बाधक है। सड़क की हालत ऐसी हो गई है कि बाजार में प्रवेश करते ही जगह-जगह उभर आए गड्ढे स्वागत करते है। हल्की वर्षा होने या नालियों से गिरकर पानी उसमें भर जाता है जो राहगीरों और दुकानदारों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। सड़क का गन्दा पानी दुकान में या लोगों के बदन पर पड़कर आए दिन तू तू-मैं मैं की स्थित पैदा कर दे रहा है। बताते चलेकि पिछले माह शासन ने इस जनपद के दो विकास खण्डों को नगर पंचायत घोषित किया था जिसमें नगरा का तो काया कल्प के लिए उद्धाटन होकर कार्ययोजना तैयार होने लगी लेकिन विकास खण्ड गड़वार ब्लाक के सबसे बड़ी ग्राम पंचायत के रतसरकला को शासन ने नगर पंचायत की घोषणा कर दी लेकिन कार्ययोजना, उद्घाटन तो दूर एक अदद रास्ते के लिए लोग महरूम है। रतसर दक्षिण चट्टी से प्रवेश करते ही मुख्य बाजार मार्ग पर जलजमाव के कारण बैंक, स्कूल एवं बाजार जाने वाले राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्रीय लोगों ने शासन से अविलम्ब जल निकासी की व्यवस्था कराने की मांग की है।

रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments