Breaking News

> > >

कोरोना की डर से गायब हूँ, कृपया न खोजा जाय



बाँसडीह, बलिया : जी हाँ चौकियें नही, बाँसडीह क्षेत्र की जनता भी एक तरफ कोरोना के चलते लॉक डाउन की त्रासदी, दूसरी तरफ बिजली की अघोषित की बेहिसाब कटौती  ये गायब होने की सूचना किसी और का नही बल्कि बिजली का संदेश है , कि  कोरोना की डर से गायब हूँ कृपया खोजा न जाय। अब ऐसे में बाँसडीह तहसील क्षेत्र के लोग फिर एक बार बिजली के लिये कराह रहे हैं।

अभी तो गर्मी की शुरुआत हो रही है । और पूरे देश मे लकडाउन चल रहा है।और लोग घरों में रह रहे हैं।अभी जिस तरह कोविड 19 करोना वायरस से पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही हैं तो लाकडाउन अभी बढ़ने की संभावना जताई जा रही हैं। प्रत्येक दिन सुबह से ही बिजली क्षेत्र में गायब हो जा रही हैं।फिर एक घण्टे के बाद फिर कट जा रही है।यह समस्या फिर सामने आ रही है। मंगलवार को भी पूरी रात बिजली गायब रही। बुधवार के दिन में भी पूरा दिन बिजली के बिना लोग परेशान रहे। बृहस्पतिवार को आई फिर नतीजा कुछ नही।शुक्रवार को एक घण्टे के बाद देर रात तक नही मिली।
अभी बिजली बलिया से आ रही हैं।और प्रत्येक दिन कहि न कही फाल्ट हो रहा है और बिजली की आपूर्ति बाधित हो रही हैं।जबकि नजदीक में 132 के वी का पावर प्लांट हुसैनाबाद में क्षेत्रीय विधायक व सूबे के नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी के प्रयास से बनकर तैयार भी हो चुका है।और बांसडीह बिधुत सब स्टेशन को सप्लाई भी ट्रायल में चालू हुई।परन्तु लगभग एक सप्ताह के बाद बिजली ब्रेकडाउन हो गई ।इसके बाद अभी तक नही बन पाई ।अगर हुसैनाबाद से आने वाली बिजली बन जाती तो लोगो को बिजली की समस्या से निजात मिल जाता।

" अधिकारी कर्मचारियों की झलक रही लापरवाही "

गेहूं , चना सहित अन्य अनाज तैयार है। जिला प्रशासन की तरफ से भी लॉक डाउन के दौरान किसानों को काफी राहत दिया जा रहा है। लेकिन बिजली विभाग अधिकारी , कर्मचारियों की लापरवाही साफ झलक रही है।बिजली जाते ही  बिजली विभाग के सारे कर्मचारी और अधिकारियों के मोबाईल स्विच ऑफ हो जा रहे हैं।



रिपोर्ट : रविशंकर पांडेय

No comments