Breaking News

जाने कहां शरारती तत्वों ने तोड़ी बैरकेटिंग, कोरोना संक्रमण का कोई डर नही




रतसर (बलिया) विकास खण्ड गड़वार क्षेत्र के छतवां गांव में पति, पत्नी एवं उनके दो नाबालिग बच्चों के कोरोना संक्रमित पाये जाने के बाद गुरूवार को सील किये गये संक्रमित क्षेत्र को असमाजिक तत्वों द्वारा उसी रात खोल दिया गया है। गुरुवार को चौकी प्रभारी रामअवध के देखरेख में प्रभावित क्षेत्र को सील किया गया था। शुक्रवार को जब स्क्रीनिंग एवं जांच के लिए प्रा० स्वा० केन्द्र के प्रभारी चिकित्साधिकारी डा० राकिफ अख्तर स्वास्थ्य टीम के साथ गांव पहुंचे तो गांव को पूरी तरह से खुला देख दंग रह गये। लोग आराम से संक्रमित क्षेत्र में आ जा रहे थे जैसे उन लोगों ने समझ लिया हो कि संक्रमित मरीज के एल -1 अस्पताल में भर्ती होने के बाद गांव पूरी तरह से कोरोना की बीमारी से मुक्त हो गया है। लोंगों की इस बीमारी के प्रति ऐसी लापरवाही पूरे गांव में संक्रमण फैलने की आशंका को बल दे रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि जिस दिन यहां पर स्वास्थ्य विभाग की टीम आई थी बस उसी दिन  बांस-बल्ली से सड़क घिरी दिखी। इस तरफ ना तो ग्राम प्रधान ध्यान दे रहा है और ना ही ब्लाक स्तर से कोई अधिकारी गांव में पहुंचा है। पीड़ित परिवार के परिजनों ने शिकायत किया कि 12 जून को पहले अधेड़ संक्रमित मरीज के  यहां से अस्पताल जाने और उसके छः दिन बाद गुरूवार को पूरे परिवार के संक्रमित होने के बाद  हम लोगों को राशन एवं खाने-पीने की आवश्यक चीजों के लाले पड़ गये है। कोई दूकानदार हमें कोई सामान नही दे रहा है। प्रशासन एवं ग्राम प्रधान की तरफ से भी अबतक कोई मदद नही मिली है। शुक्रवार को ही स्वास्थ्य विभाग स्थानीय सेंट्रल बैंक की शाखा पर पहुंचा और संक्रमित मरीज के संपर्क में आए  बैंक के कर्मचारियों की जांच कर आवश्यक निर्देश दिया एवं सैम्पलिंग के लिए लिस्ट तैयार की। टीम में जिला सर्विलांस के सदस्य धनेश पाण्डेय, बीसीपीएम अनिल कुमार एवं लैब टेक्निशयन युसूफ अंसारी, संतोष यादव सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजुद रहे।



रिपोर्ट : धनेश पाण्डेय

No comments