Breaking News


सामने आई वह अनामिका शुक्ला जिसके नाम पर कई जिलों में होती रही शिक्षिका की नौकरी




   
गोंडा। यूपी के कई जिलों में 'अनामिका शुक्ला' के नाम पर नौकरी करने के मामले में नया मोड़ सामने आया है। असली अनामिका शुक्ला मंगलवार को बीएसए आफिस पहुंची और शपथ पत्र सौंपते हुए चौंकाने वाली बात बताई। दरअसल, अनामिका ने बताया कि उसने तो आजतक नौकरी ही नहीं की है। उसके शैक्षणिक प्रमाण पत्रों का किसी ने गलत इस्तेमाल किया है। अनामिका के इस खुलासे के बाद से शिक्षा विभाग में खलबली मच गई और अधिकारियों पर एक बार फिर सवाल खड़े होने लगे।

अनामिका शुक्ला ने गोंडा के कस्तूरबा बालिका इंटर कॉलेज रेलवे कॉलोनी से हाईस्कूल पास किया था। इसके बाद बेनी माधव जंग बहादुर इंटर कॉलेज परसपुर से इंटरमीडिएट किया और स्नातक की डिग्री बीएससी श्री रघुकुल महिला विद्यापीठ सिविल लाइन से ली। इसके आगे अनामिका ने बीएड आदर्श कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय जियापुर बरुवा जलाकी टांडा अंबेडकर नगर से किया और टीईटी परीक्षा नियामक प्राधिकारी उत्तर प्रदेश 23 एलनगंज इलाहाबाद से पास की। अनामिका शुक्ला ने बताया कि वर्ष 2017 में नौकरी के लिए आवेदन जरूर किया था, लेकिन बच्चा छोटा होने की वजह से उसने नौकरी ज्वाइन ही नहीं की थी। बीएसए ने बताया कि अनामिका शुक्ला की ओर से इस आशय का शपथ पत्र दिया गया है कि उसके शैक्षिक अभिलेखों को फर्जी ढंग से इस्तेमाल किया गया।

बेसिक शिक्षा अधिकारी इंद्रजीत प्रजापति ने बताया कि अनामिका शुक्ला खुद सामने आई हैं। अनामिका शुक्ला गोंडा जिले की ही रहने वाली है और यहीं उनकी शिक्षा-दीक्षा हुई है। उनके नाम पर अन्य ​जनपदों में नौकरी किए जाने की जानकारी पर वह खुद अपने डाक्यूमेंट्स लेकर पहुंचीं। हमारे पास एसपीओ आफिस से जो डाक्यूमेंट्स आए थे उस डॉक्यूमेंट से मिलान किया तो उसमें कुछ डिफर पाया गया। साइन कुछ स्कैन किए गए हैं, बाकी नंबर और रोल नंबर सब कुछ वही हैं। डॉक्यूमेंट बिल्कुल स्कैन किया गया। बीएसए के मुताबिक, अनामिका शुक्ला ने बताया कि जौनपुर, सुल्तानपुर, लखनऊ में कस्तूरबा गांधी विद्यालय में विज्ञान शिक्षिका के लिए उन्होंने एप्लाई किया था। वहीं से डॉक्यूमेंट की फोटोस्टेट कॉपी कुछ मिली हैं और वहीं से कुछ गलत इस्तेमाल किया गया है। साभार-वनइंडिया

डेस्क

No comments