Breaking News


बीसीडीए के अध्यक्ष ने बलिया के दवा कारोबारियों के नाम लिखा खुला पत्र



सम्मानित दवा व्यापारी भाईयों... 

कोरोना से यह जंग अभी लंबी है जो दस पंद्रह दिन दुकान बंद करने या समय कम करने से जीती नहीं जा सकती।

अभी तो इसकी वैक्सीन या दवा ही नहीं बनी है और इसकी भी कोई गारंटी नहीं है कि दवा खाने या वैक्सीन लगने के बाद अथवा एक बार संक्रमित हो कर सही हो जाने के बाद पुनः संक्रमण नहीं होगा।

कोरोना से बचने के लिए हमें अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना पड़ेगा व कठिन नियमों का पालन करना सीखना होगा।

1. दूसरों से कम से कम 1.5 मीटर की शारीरिक दूरी हमेशा बनाए रखें भले ही वो आपका कस्टमर हो या स्टाफ।

2. अच्छी क्वालिटी का मास्क हर समय लगाए रखें।

3. मास्क को हाथ लगाने से पहले हाथों को sanitize करें या अच्छी तरह साबुन से धोएं।

4. सोशल gatherings में जाने से बचें।

5. किसी भी चीज़ को खरीदने के बाद पहले उसे धोएं या sanitize करें, तब इस्तेमाल करें। खास तौर पर खाने की चीज़ें इस्तेमाल करने से पहले पूरा प्रोटोकॉल फॉलो करें।

6. कुछ मात्रा में पीपीई किट, disposible gloves, कैप्स, फेस शील्ड, मास्क के साथ साथ पल्स ऑक्सी मीटर, इंफ्रारेड थर्मोमीटर, बीपी मशीन, शुगर मशीन, सेनीटाइजर with स्प्रे जैसे कुछ जरूरी सामान अब हर समय घर पर रखें। क्योंकि आने वाले समय में हमें या हमारे मिलने वालों को इन सब की आवश्यकता पड़ सकती है।

7. ध्यान रखें कि जान है तो जहान है। 

एक और बात... 
कुछ समय से देखा जा रहा है जब भी कोई व्यक्ति या उसके परिवार को कोरेनटाइन किया जाता है या आइसोलेशन के लिए ले जाया जाता है। तब उसके पड़ोसी उसकी वीडियो बनाते हैं, वो खूब वायरल होती है। एक ऐसा माहौल सा बन जाता है मानो उस व्यक्ति या उसके परिवार ने कोई बहुत बड़ा अपराध कर दिया हो।याद किजिए वाराणसी मे दवा व्यापारी कोरोना पाजेटीव पाया गया था और हम दवा व्यापारीयों को एहतीयातन कितना झेलना पड़ा।फिर भी हमारा संगठन जिला प्रशासन को पूर्ण सहयोग किया।हमारे सदस्यों के खिलाफ अनेकों अफवाहें फैलाई गयीं।हमें वो समय भूलना नहीं है।सख्ती से कोरोना से बचने के उपाय अपनाते हुए जीवन चलाना है।

मेरा सभी लोगों से एक ही निवेदन है कि जब भी कभी आपके आसपास के किसी व्यक्ति या पड़ोसी को क्वारोटाइन या आइसोलेशन के लिए ले जाया जा रहा हो तो उसकी वीडियोग्राफी करके उसे अपराध बोध जैसा अनुभव कराने का प्रयास ना करें। बल्कि अपने घर के दरवाजे, बालकनी या छत से आवाज लगाकर, हाथ उठाकर/हिलाकर उनका उत्साह बढ़ाएं और कहें कि आप जल्द ही ठीक होकर हमारे बीच में फिर से पहले जैसी जिंदगी शुरू करेंगे। उनके जल्द ठीक होकर घर वापसी के लिए शुभकामनाएं दें।

1. उनकी इज़्ज़त करें।

2. उनके लिए प्रार्थना करें।

3. उन्हें अच्छा पड़ोसी व मित्र होने का एहसास कराएं।

4. *Get Well Soon*  कहें
जिससे वह अंदर से मज़बूत होकर सबके साथ फिर से जुड़े।

5. दूरी शारीरिक रखें ना कि सामाजिक।

6. एक दूसरे का मनोबल बढ़ाये।

ऐसा करने से उन्हें अच्छा लगेगा साथ ही आपको भी शांति प्राप्त होगी। क्योंकि इस स्थान पर हम में से कोई भी हो सकता है। बीमारी दवा के साथ साथ मनोबल से भी ठीक होती है। 

ईश्वर से प्रार्थना करें सभी का मंगल हो। सभी स्वस्थ रहें। सबके जीवन में प्रेम और शांति की स्थापना हो।

आपके घर वालो को आप प्रिय हैं, जरूरी हैं और याद रखिए ईश्वर की कृपा एवं अपने व्यापार से उनके पालनहार भी हैं । इसलिए अपने ध्यान/सुरक्षा रखने का जिम्मेदारी खुद उठाएं।


आनन्द कुमार सिंह
अध्यक्ष
बलिया केमिस्ट एण्ड ड्रगिस्ट एसोसिएशन, बलिया

No comments